धान की नर्सरी कैसे तैयार करें(2023)|धान की नर्सरी तैयार करते समय ध्यान रखने योग्य बातें।

धान की नर्सरी

धान की बिजाई के लिए पहले धान की नर्सरी तैयार करनी पड़ती है। किसान भाई धान की नर्सरी एक छोटी क्यारी में ही तैयार करते हैं। धान की नर्सरी तैयार करना पुरानी और पारंपरिक विधि है। आजकल कुछ किसान भाई धान की सीधी बिजाई भी करते हैं लेकिन आज भी बहुत से किसान धान की नर्सरी तैयार करके ही धान की रोपाई करते हैं। धान की नर्सरी तैयार करते समय अक्सर किसान भाई बहुत सी गलतियां करते हैं। धान की नर्सरी पर ही हमारी पैदावार निर्भर करती है। अगर हमारी धान की नर्सरी अच्छी और स्वस्थ होगी तो अधिक पैदावार निकाल कर देगी। हम अपनी 10प्रतिशत पैदावार अच्छी नर्सरी से बढ़ा सकते हैं। इसलिए हमें धान की नर्सरी तैयार करने में अच्छे और स्वस्थ बीजों का प्रयोग करना चाहिए। किसानों द्वारा अलग-अलग तरीकों से धान की नर्सरी की बिजाई की जाती है। कुछ किसान भाई सूखी क्यारी में धान की बिजाई करके उसमें पानी देते हैं। और कुछ क्यारी में पानी भरने के बाद में उसमें धान की बिजाई करते हैं। धान की नर्सरी तैयार करने में किसानों द्वारा अपनाए गए सभी तरीके किसानों के अपने अनुभव के हिसाब से सही हैं सभी किसान भाई अलग-अलग तरीकों से धान की बिजाई करते हैं आज मैं आपको धान की बिजाई करने का सबसे अच्छा तरीका बताता हूं। मैं अपने अनुभव से आपको धान की नर्सरी कैसे तैयार करते हैं। वह बताऊंगा यह मेरा तरीका है आप इसके अनुसार भी अपनी धान की नर्सरी तैयार कर सकते हैं। या आप जो भी तरीका अपनाते हैं आप उसी तरीके से अपनी धान की नर्सरी तैयार कर सकते हैं।

धान की नर्सरी कैसे तैयार करें

धान की नर्सरी तैयार करते समय ध्यान रखने योग्य बातें

धान की तैयार करते समय किसान जल्दबाजी में गलती करते है। धान की नर्सरी में सही बीज उपचार, सही बीज का चुनाव, और सही खाद का प्रयोग करना बहुत जरूरी है। धान की नर्सरी तैयार करते समय जो जरूरी बातों का हमें ध्यान रखना है वह नीचे लिखी गई है

खेत की तैयारी

जिस खेत में हमें धान की नर्सरी तैयार करनी है। उसको पहले कंप्यूटर लेवल से उसका लेवल करना बहुत ज्यादा जरूरी है। इससे पूरे खेत में बराबर पानी लगेगा। उसके बाद उसमें पानी लगा दे जिससे जो खरपतवार उगने है वह उग जायेंगे और जब हम खेत को तैयार करेंगे तो उस समय वह सारे खरपतवार नष्ट हो जाएंगे जिससे धान की नर्सरी में खरपतवार कम होंगे।

धान की नर्सरी में बीज उपचार

धान की नर्सरी तैयार करते समय हमें बीज उपचार करना बहुत ज्यादा जरूरी है बीज उपचार करने के लिए हम एक ड्रम में 20 लीटर पानी लेकर उसमें बीज डाल लें। जो बीज हल्के या खराब होंगे वो ऊपर तौर जाएंगे। उनको बाहर निकल लें। बाकी बीज को (Carbendazim 12% + Mencozeb 63% WP) की 3 ग्राम मात्रा प्रति 1kg बीज पर प्रयोग करे। बिजाई करने से पहले बीज को 24 घंटे तक भिगोकर रखना बहुत जरूरी है। जब अंकुरण शुरू हो जाए तब बीज की बिजाई अपनी क्यारी में करें।

धान की नर्सरी में बीज की मात्रा

धान की एक एकड़ की नर्सरी तैयार करने के लिए 3 किलो बीज का प्रयोग करना चाहिए। क्यारी में बीज की बात करें तो 1.5मरले (45 फीट लंबाई और 15 फीट चौड़ाई) की क्यारी में 3 किलो बीज की बिजाई करनी चाहिए।

धान की नर्सरी में खाद का प्रयोग

धान की नर्सरी में एक एकड़ की पोध या 3kg बीज के लिए 225g यूरिया, 300g DAP, 150g पोटाश और 75g चेल्टेड जिंक का प्रयोग करना चाहिए।

धान की नर्सरी में खरपतवार नियंत्रण

धान की नर्सरी में हमें खरपतवार नियंत्रण के लिए (Pertilachlor 30.7% EC) की 80ml मात्रा 10kg रेत में मिला कर 1 कनाल में बजाई के 48 घंटे के अंदर प्रयोग करनी हैं।

धान की नर्सरी में उगे हुए खरपतवारों को मारने के लिए नॉमिनी गोल्ड की 12ml मात्रा को 15 लीटर की टंकी में घोलकर 1 कनाल में स्प्रे करना चहिए।

FAQ

1. धान की नर्सरी का पीलापन दूर करने के लिए क्या करें?
Ans. धान की नर्सरी का पीलापन दूर करने के लिए आपको 100ग्राम फेरस सल्फेट+50ग्राम जिंक सल्फेट 33% और 100ग्राम यूरिया को 15 लीटर की टंकी में गोल बनाकर एक कनाल में स्प्रे करना है।

ये भी पढ़े– सवा–7301 धान की विशेषताएं2023|Sawa-7301 Paddy seed

ढांचे की खेती (हरी खाद की खेती कैसे की)|ढांचे के लिए सरकार द्वारा बीज अनुदान(2023)

Leave a Comment