कम पानी में भी अधिक उत्पादन देती है, मूंग की यह किस्म:There is no competition for this variety of Moong

By Kheti jankari

Published on:

कम पानी में भी अधिक उत्पादन देती है, मूंग की यह किस्म

कम पानी में भी अधिक उत्पादन देती है, मूंग की यह किस्म। मूंग की खेती। मूंग की टॉप किस्म। मूंग की रिसर्च किस्म। मूंग की उन्नत किस्म। पीडीएम-139 मूंग किस्म की विशेषताएं। पीडीएम-139 मूंग किस्म का बिजाई क्षेत्र। There is no competition for this variety of Moong.

गर्मियों में बिजाई के लिए बेस्ट है मूंग की यह किस्म

किसान साथियों नमस्कार, मूंग की दो प्रकार की किस्में आपको आमतौर पर देखने को मिलती हैं। एक वह किस्में जिनकी बिजाई बरसात के मौसम में की जाती है, और दूसरी वह किस्में जिनकी गर्मी के सीजन में बिजाई की जाती है। खरीफ सीजन और रबी के सीजन के बीच वाले सीजन को गर्मी या जायद का सीजन कहा जाता है। इस समय मूंग की जो किस्में उगाई जाती हैं। उनका दाना थोड़ा छोटा होता है, और बरसात के दिनों में उगाई जाने वाली मूंग किस्म का दाना थोड़ा बड़ा और मोटा होता है। इसलिए जायद के सीजन वाले में किस्में 5 से 10 दिन जल्दी पक कर तैयार हो जाती हैं। भारतीय दलहन अनुसंधान संस्थान कानपुर द्वारा एक मूंग की किस्म तैयार की गई है। जो पीडीएम-139 के नाम से जानी जाती है। इस मूंग किस्म के बारे में संपूर्ण जानकारी के लिए कृपया पुरा लेख पढ़ें।

पीडीएम-139 मूंग किस्म की विशेषताएं

मूंग की यह किस्म भारतीय दलहन अनुसंधान संस्थान कानपुर द्वारा वर्ष 2001 में निकली गई थी। मूंग की यह किस्म पिछले 20 से 22 सालों में किसानों के दिलों पर छाई हुई है। क्योंकि इसने पैदावार के मामले में आज तक किसानों को निराश नहीं किया। मूंग की इस किस्म में गर्मी सहन करने की क्षमता अन्य किस्मों के मुकाबले अधिक होती है। मूंग की यह किस्म कम पानी में भी अच्छी पैदावार निकाल कर देती है। इस किस्म को आप दो से तीन पानी में भी तैयार कर सकते हैं। अगर आप इसमें 4 से 5 पानी लगा देते हैं, तो यह आपको बंपर पैदावार निकाल कर देती है।

पंजाब के विज्ञानिकों द्वारा तैयार की गयी मूंग किस्म

पीडीएम-139 मूंग किस्म का पकाने का समय और बजाई समय

मूंग की यह किस्म पकाने में 60 से 65 दिन का समय लेती है। आप इस किस्म की बिजाई वैसे तो गर्मी और बरसात दोनों मौसमों में कर सकते हैं। लेकिन गर्मी के मौसम में यह मूंग किस्म बिजाई के लिएसबसे उपयुक्त रहती है।

पीडीएम-139 मूंग किस्म की औसत पैदावार और बीज मात्रा

मूंग की इस किस्म का 8 किलोग्राम बीज प्रति एकड़ प्रयोग किया जाता है। यह मूंग किस्म 6 से 7 क्विंटल प्रति एकड़ तक पैदावार आसानी से दे देती है।

पीडीएम-139 मूंग किस्म का बिजाई क्षेत्र

मूंग की इस किस्म की बिजाई आप उत्तर भारत और मध्य भारत के लगभग सभी राज्यों में कर सकते हैं। लेकिन पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश आदि जिलों में मुख्य रूप से कर सकते हैं।

नोट-किसान साथी बिजाई करते समय बीज उपचार अवश्य करें और अपने नजदीकी बीज विक्रेता से संपर्क अवश्य कर लें।

किसान साथियों आप कौन से सीजन में मूंग की खेती करते हैं। कृपया कमेंट में जरूर बताएं और अगर आपको मेरा लेख अच्छा लगा तो इसे आगे अन्य किसानों तक भी अवश्य शेयर करें। धन्यवाद!

ये भी पढ़ें- भारतीय दलहन अनुसंधान संस्थान द्वारा तैयार की गई मूंग की सबसे अच्छी किस्म

चमकदार और मोटे दाने वाली श्रीराम सीड्स की इस मूंग किस्म की करें बजाई:मिलेगी अधिक पैदावार

चमकदार और मोटे दाने वाली श्रीराम सीड्स की इस मूंग किस्म की करें बजाई:मिलेगी अधिक पैदावार

मूंग की उन्नत खेती:बजाई समय, बीज मात्रा सम्पूर्ण

Kheti jankari

खेती जानकारी एक ऐसी वेबसाइट है। जिसमें आपको कृषि से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यहां आप कृषि, पशुपालन और कृषि यंत्रों से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Leave a Comment