मूंग की उन्नत खेती:बजाई समय, बीज मात्रा सम्पूर्ण:Fungus and insect diseases in moong

By Kheti jankari

Published on:

मूंग की उन्नत खेती

मूंग की उन्नत खेती। बजाई समय, बीज मात्रा सम्पूर्ण। मूंग का बजाई समय। मूंग के लिए बीज मात्रा। मूंग में सिंचाई समय। मूंग में फंगस और कीट रोग। मूंग का पकने का समय। मूंग का मंडी भाव। मूंग की औसत पैदावार। Fungus and insect diseases in moong.

गेहूं में प्रयोग होने वाले सस्ते और टॉप फंगीसाइड के बारे में जानें

किसान साथियों नमस्कार, मूंग एक दलहनी फसल है। मूंग की दाल लगभग पूरे भारत में प्रयोग की जाती है। मूंग की खेती कम लागत में अधिक मुनाफा देने वाली खेती है। इसमें आपको एक या दो खाद डालने पड़ते हैं, और आपकी मूंग तैयार हो जाती है। मूंग की खेती आप लगभग भारत के सभी हिस्सों में कर सकते हैं। आज मैं आपको मुंग की खेती के लिए सही समय, सही बीज मात्रा और उसमें किस समय सिंचाई करनी चाहिए। इस सभी के बारे में संपूर्ण जानकारी के लिए नीचे पूरा लेख पढ़ें।

मूंग का बजाई समय

मूंग एक ऐसी फसल है, जिसकी बजाई आप लंबे समय तक कर सकते हैं। मूंग की बिजाई मुख्या तौर पर 15 मार्च से 5 जुलाई तक की जाती है। इसके लिए हमें मार्च में बीज की मात्रा थोड़ी अधिक लेनी है, और जून, जुलाई में हमें बीच की मात्रा थोड़ी कम ले सकते हैं।

सरसों में पाले से नुक्सान:क्या करें किसान, कृषि वैज्ञानिकों ने बताएं यह आसान तरीका

मूंग के लिए बीज मात्रा

अगर आप मूंग की बिजाई मार्च, अप्रैल में करते हैं, तो आपको 8 से 10 किलोग्राम बीज का प्रयोग करना है। अगर आप मूंग की खेती जून और जुलाई में करते हैं, तो आपको 6 से 7 किलोग्राम बीज प्रति एकड़ प्रयोग करना है। मुंग की बजाई करते समय बीज उपचार फफूंदीनाशक और कीटनाशक से आवश्यक करें।

मूंग में सिंचाई समय

मूंग की फसल चार सिंचाई में तैयार हो जाती है। पहली संचाई हमें 10 से 12 दिन के अंतराल पर करनी पड़ती है। क्योंकि मार्च अप्रैल में धूप तेज होती है, और गर्मी अधिक पड़ती है। इसलिए हमें सिंचाई जल्दी-जल्दी करनी पड़ती है। मूंग में हमें पहली सिंचाई 10 से 12 दिन, दूसरी सिंचाई 20 से 22 दिन, तीसरी सिंचाई 35 से 40 दिन और चौथी सिंचाई हमें 55 से 60 दिन पर कर देनी चाहिए। बाकि अलग-अलग खेतों में संचाई अलग-अलग समय पर होती है। किसान भाई अपने खेत के हिसाब संचाई कर सकते है।

मूंग में फंगस और कीट रोग

मूंग में कुछ मात्रा में फंगस रोग और कीट रोग भी लगते हैं। इसलिए किसान भाई समय-समय पर कीटों और फंगस रोगों के लिए स्प्रे करते रहें। इसके लिए आप चाहे तो एक शेड्यूल भी बना सकते हैं, कि इस समय यह स्प्रे करना है। आप किसी भी सस्ते फफूंदी नाशकों का स्प्रे कर सकते हैं।

मूंग का पकने का समय

मूंग की फसल पकने में लगभग 60 से 70 दिन का समय ले लेती है। यह समय आपकी बिजाई समय और आपके क्षेत्र पर निर्भर करता है। इसमें 10 दिन ऊपर या नीचे हो सकते हैं।

मूंग का मंडी भाव

मूंग का मंडी भाव 9000 से 11000 रुपए प्रति क्वान्टल तक आसानी से रहता है। आप इसकी किसी भी समय बिजाई करें। यह इतने रेट में आसानी से बिक ही जाती है।

मूंग की औसत पैदावार

मूंग 6 से 7 क्वान्टल प्रति एकड़ तक आसानी से निकल जाती है। यह पैदावार भी आपकी खेती करने के तरीके और आपकी देखभाल पर निर्भर करती है। अगर आप सही समय पर सही खादों और न्यूट्रिशन का प्रयोग करते हैं। तो आप निश्चित ही मूंग की फसल से 10 क्वान्टल तक भी पैदावार ले सकते हो।

किसान साथियों आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी। कृपया कमेंट के माध्यम से जो हमें जरूर बताएं और इसे अन्य दूसरे किसानों तक भी अवश्य शेयर करें। धन्यवाद!

FAQ

मूंग में कौन सा खाद देना चाहिए?
मुंग की फसल में आपको अधिक खाद देने की जरूरत नहीं पड़ती। यह 50kg यूरिया में यूरिया में आसानी से हो जाती।

ये भी पढ़ें- गेहूं में गुड़ के साथ डालें ये शानदार चीज:कल्लों की फुटाव और बढ़वार का बेस्ट तरीका

गेहूं में कल्लों की संख्या कैसे बढ़ाएं:किसानों द्वारा प्रयोग किये जानें वाले दो आसान तरिके जानें

सरसों में माहू कीट(तेला चेपा) का नियंत्रण कैसे करें:फलियां बनने के समय हल्के में ना लें

इस समय करें सरसों की बिजाई मिलेगी 1क्वान्टल से 2 क्वान्टल प्रति एकड़ तक अधिक पैदावार

Kheti jankari

खेती जानकारी एक ऐसी वेबसाइट है। जिसमें आपको कृषि से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यहां आप कृषि, पशुपालन और कृषि यंत्रों से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Leave a Comment