गेहूं में दूसरी सिंचाई:कल्ले नहीं बने, डालें ये दमदार खाद:पीलापन खत्म करने का सही समय:Fertilizer on second water in wheat

By Kheti jankari

Published on:

गेहूं में दूसरी सिंचाई

गेहूं में दूसरी सिंचाई। गेहूं में पीलापन दूर करने के सस्ता उपाय। गेहूं की खेती। गेहूं में दूसरे पानी पर खाद। गेहूं में खाद। गेहूं में जिंक। गेहूं में सल्फर। गेहूं में सागरिका। Fertilizer on second water in wheat.

गेहूं में कद रोकने वाली दवाई का प्रयोग करना चाहिए:क्या कहते हैं कृषि वैज्ञानिक

गेहूं की फसल में काफी किसान दूसरी सिंचाई करने जा रहे है। गेहूं में दूसरी सिंचाई लगभग 50 से 60 दिन पर हो जाती है। इस समय किसानों के मन में अक्सर यह सवाल रहता है, कि वह कौन से खाद का इस्तेमाल करें। जिससे अधिक कल्लों का फुटाव हो और गेहूं से पीलापन भी पूरी तरह से खत्म हो जाए। इसके लिए हमें कौन-कौन से खादों का इस्तेमाल करना है। अगर हमारी फसल नॉर्मल है, तो इसमें कौन-कौन से खातों का इस्तेमाल करना चाहिए। इस बारे में संपूर्ण इस लेख में जानें।

गेहूं में पीलापन दूर करने के सस्ता उपाय

गेहूं में पीलापन कई कारणों से आता है। जैसे-अगर आपके खेत की मिट्टी चिकनी है, अधिक पानी की वजह से, खेत में दीमक होने की वजह से, खरपतवार नाशक दवाइयां के प्रयोग से या फिर खेत में न्यूट्रिशन की कमी वजह से आपकी फसल में पीलापन आ सकता है। अगर आपकी फसल में ऊपर दिए गए किन्हीं कारणों से पीलापन है, तो आप इसके इसका निवारण स्प्रे द्वारा करें। स्प्रे द्वारा आपकी फसल से पीलापन सबसे जल्दी हटेगा। इसके लिए आप हमिक एसिड 500ml + चेल्टेड जिंक 100g + मैग्नीशियम सल्फेट 1kg और बोरोन 100g को 200 लीटर पानी में घोल बनाकर प्रति एकड़ स्प्रे करें। इससे आपकी गेहूं की फसल में पीलापन जल्दी से हट जाएगा। इस स्प्रे पर आपका खर्चा भी मात्र 400रु से 500रु प्रति एकड़ तक आएगा।

गेहूं में सब कुछ डालने के बाद भी कल्ले नहीं बने:ये है मुख्य कारण, डालें ये जरूरी खाद

गेहूं में दूसरे पानी पर खाद

गेहूं में खाद आप पानी लगाने से पहले या बाद में दोनों प्रकार से डाल सकते हैं। अगर आप खाद को पानी देने के बाद डालते हैं, तो आपको गीली जमीन में खाद डालने के ज्यादा फायदे मिलेंगे। इसलिए जमीन सुख जाने पर खाद न डालें। गेहूं में दूसरे पानी से पहले यह बाद में आपको एक बैग यूरिया के साथ 10kg सागरिका प्रति एकड़ और 5kg मैग्नीशियम सल्फेट को प्रति एकड़ साथ में मिलाकर अपने खेत में डाल दें। अगर आपने पहले पहले खाद में सागरिका का इस्तेमाल किया है। तो अबकी बार आप 6kg जिंक 33% और 3kg सल्फर 90% प्रति एकड़ वाले को साथ में मिलकर इस खाद के साथ डाल सकते हैं। इससे आपकी कल्लों का फुटाव भी अधिक होगा और आपके खेत की फसल हरी-भरी होगी।

आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी। कृपया कमेंट के माध्यम से हमें जरूर बताएं और दूसरे किसानों तक भी से शेयर करें। धन्यवाद

FAQ

गेहूं की फसल में जिंक का प्रयोग कब करें?
गेहूं की फसल में जिंक का प्रयोग आप पहले पानी या दूसरे पानी पर करने में सबसे अच्छे रिजल्ट निकल कर आते है। जिंक के साथ सल्फर का प्रयोग करें।

ये भी पढ़ें – गेहूं में जिंक और सल्फर का प्रयोग एक साथ नहीं किया:तो सब कुछ फेल, जानें क्या कहते है कृषि जानकर

गेहूं में मैग्नीशियम का प्रयोग करें या ना करें(2023):मैग्नीशियम पौधे के लिए क्यों जरूरी है

गेहूं में जिंक डालने के बाद भी जिंक की कमी पूरी नहीं हुई(2023):ये हैं मुख्या कारण

गेहूं की पत्तियों बीच से मुड़कर पीलापन आने की समस्या:क्या है कारण, सस्ता इलाज जानें(2023)

Kheti jankari

खेती जानकारी एक ऐसी वेबसाइट है। जिसमें आपको कृषि से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यहां आप कृषि, पशुपालन और कृषि यंत्रों से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

1 thought on “गेहूं में दूसरी सिंचाई:कल्ले नहीं बने, डालें ये दमदार खाद:पीलापन खत्म करने का सही समय:Fertilizer on second water in wheat”

  1. पीछे गेहूं की खेती में क्या करें की अच्छी उपज हो

    Reply

Leave a Comment