गेहूं की पत्तियों बीच से मुड़कर पीलापन आने की समस्या:क्या है कारण, सस्ता इलाज जानें:Treatment of yellowing of leaves in wheat

By Kheti jankari

Published on:

गेहूं की पत्तियों बीच से मुड़कर पीलापन आने की समस्या

गेहूं की पत्तियों बीच से मुड़कर पीलापन आने की समस्या अक्सर किसानों को देखने को मिलती है। इस का समय पर समाधान करना जरूरी ताकि फसल से अच्छी पैदावार ले सकें। पीलापन आने के कारण और उपाय जानने के लिए पूरा लेख पढ़ें।

दिसंबर के महीने में करें इन गेहूं किस्मों की बिजाई मिलेगी अधिक पैदावार

किसी भी फसल की बिजाई से लेकर कटाई तक किसानों को अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। कभी अत्यधिक तापमान, कभी अत्यधिक ठंड, तो कभी बारिश के कारण किसानों को नुकसान भी उठाना पड़ता है। इसके साथ-साथ फसलों में अनेक रोग समय-समय पर लगाते रहते हैं। जिससे किसानों की लागत इन फसलों पर और भी अधिक बढ़ जाती है। फसलों में समय पर स्प्रे और खाद पानी देने पर भी किसान अपना पूरा उत्पादन नहीं ले पाते और कुछ किसानों की तो फसल नष्ट भी हो जाती है। ऐसी ही एक समस्या गेहूं में आती है, जिसमें पत्तियां बीच से मुड़कर पीली हो जाती हैं। यह एक आम समस्या है ,यह लगभग सभी क्षेत्रों में देखी जाती है। इस रोग के होने के कारण व इलाज नीचे जानें –

गेहूं की पत्तियों बीच से मुड़कर पीलापन आने की समस्या
गेहूं की पत्तियों बीच से मुड़कर पीलापन आने की समस्या

गेहूं में पत्तियां मुड़कर पीले होने के कारण

गेहूं के अंदर ऐसी समस्या लगभग सभी किसानों को देखने को मिलती है। गेहूं के पौधे की पत्तियां मुड़कर बीच में पीलापन आ जाता है। जिन पौधों में पत्तियां बीच से मुड़ी हुई हो और जो हिस्सा मुड़ा हुआ है, उसमें हल्का पीलापन दिखाई दे। इस बीमारी के होने का मुख्य कारण आपकी फसल में विभिन्न तरह के खरपतवार नाशकों का प्रयोग है। अपने दो से तीन खरपतवारों को आपस में मिलाकर स्प्रे किया होगा। जिसके कारण यह समस्या आपकी गेहूं की फसल में आपको देखने को मिल रही है। यह कोई खतरनाक रोग नहीं है। इसका समाधान आसानी से कर सकते है।

गेहूं में प्रयोग होने वाली एक्सियल खरपतवार नासी की चार खास बातें शायद किसानों को नहीं पता होंगी

गेहूं में पत्तियां मुड़कर पीलेपन का इलाज

गेहूं में इस समस्या का इलाज किसान भाई आसानी से कर सकते कर सकते हैं। इसके लिए किसान भाई माइक्रोन्यूट्रिएंट्स ( जिंक, लोहा, सल्फर, मैग्नीज, बोरोन, तांबा) का स्प्रे करें जो किसान आमतौर पर करते ही हैं। इसके साथ 250ml ह्यूमिक एसिड प्रति एकड़ भी अवश्य मिल लें।

इस रोग से किसान भाइयों को डरने की आवश्यकता नहीं है। अगर आप स्प्रे भी नहीं करते हो। तब भी फसल अपने आप ठीक हो जाती है। लेकिन यह ठीक होने में थोड़ा समय लेती है। आपको फसल में जल्दी हरापन लाने के लिए स्प्रे करना पड़ता है।

आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी कृपया कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं। ताकि दूसरे किसान भी से लाभ ले सकें। धन्यवाद!

FAQ

गेहूं की फसल में पोटाश कब दिया जाता है?
गेहूं में पोटाश बजाई के समय दिया जाता है। लेकिन अगर आप बजाई के समय नहीं दे पाए तो पहले पानी पर दे सकते है।

ये भी पढ़ें – गेहूं में पानी कब लगाएं:कितनी बार लगाएं,पानी देने के इस तरीके से पैदावार को बढ़ाएं

गेहूं में डीएपी की कमी:बिजाई के समय डीएपी का प्रयोग नहीं किया,फास्फोरस की कमी पूरी करने का आसान तरीका जानें

गेहूं में अड़ियल मंडुसी (गुली डंडा) को भी जड़ से ख़त्म करने की क्षमता रखती है यह खास खरपतवार नाशक दवाई

गेहूं में जिंक और सल्फर का प्रयोग एक साथ नहीं किया:तो सब कुछ फेल, जानें क्या कहते है कृषि जानकर

Kheti jankari

खेती जानकारी एक ऐसी वेबसाइट है। जिसमें आपको कृषि से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यहां आप कृषि, पशुपालन और कृषि यंत्रों से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Leave a Comment