शाहजहांपुर गन्ना शोध केंद्र के वैज्ञानिकों द्वारा बनाई गई गन्ने की नई किस्म:स्टिक पहचान और विशेषताएं जानें:Government recognized early variety of sugarcane

By Kheti jankari

Updated on:

शाहजहांपुर गन्ना शोध केंद्र के वैज्ञानिकों द्वारा बनाई गई गन्ने की नई किस्म

शाहजहांपुर गन्ना शोध केंद्र के वैज्ञानिकों द्वारा बनाई गई गन्ने की नई किस्म। गन्ने की खेती। गन्ने की टॉप किस्म। गन्ने की सबसे अच्छी किस्म। गन्ने की उन्नत किस्म। उत्तर प्रदेश की गन्ना किस्म। COS-17231 गन्ना किस्म। COS-17231 गन्ना किस्म की स्टिक पहचान। Uttar Pradesh Sugarcane Research Council.

CO-0238 से अधिक पैदावार निकाल कर देती है गन्ने की यह अगेती किस्म

भारत में गन्ने की खेती लगभग पूरे भारत में की जाती है। अलग-अलग राज्यों के वैज्ञानिक अपने क्षेत्र के हिसाब से गन्ने की नई-नई किस्म विकसित करते हैं। उत्तर प्रदेश गन्ना अनुसंधान परिषद, शाहजहाँपुर के वैज्ञानिकों ने गन्ने की एक नई किस्म बनाई है। गन्ने की इस किस्म में कल्लों का फुटाव अधिक होता है। यह रोग मुक्त गन्ना किस्म है। गन्ने की यह किस COS-17231 के नाम से जानी जाती है। इस गन्ना किस्म की सटीक पहचान, विशेषताएं और पैदावार जानने के लिए कृपया पूरा लेख पढ़ें।

COS-17231 गन्ना किस्म की विशेषताएं

COS-17231 उत्तर प्रदेश गन्ना अनुसंधान परिषद, शाहजहाँपुर के वैज्ञानिकों द्वारा तैयार की गई एक अगेती गन्ना किस्म है। गन्ने की यह किस्म 14 से 15 फीट तक लंबाई आसानी से ले लेती है। इसका अगोला गहरे हरे रंग का होता है। इसका अगोला आखिरी अप्रैल तक भी हरा-भरा रहता है। इस किस्म की बिजाई आप किसी भी मौसम में कर सकते हैं। गन्ने की यह किस्म COV-89101 और COS-96260 किस्म को मिलाकर तैयार की गई है। गन्ने की इस किस्म की बिजाई वैसे तो पुरे भारत में कर सकते है, लेकिन उत्तर भारत के लिए ये किस्म सबसे अच्छी मानी जाती है। गन्ना की यह किस्म पोका बोईंग और रेड रॉट जैसे रोगों के प्रति सहनशील है।

गन्ने में जड़ बेधक का नियंत्रण कैसे करें:गन्ने की ऊपरी पत्तियां पीली होने का कारण

COS-17231 गन्ना किस्म की पहचान

  • गन्ना की इस किस्म के अगोले के ऊपरी तरफ एक कान उभरा हुआ होता है। इसके अगोले पर कांटे नहीं होते। इसकी पत्तियां मुलायम होती है। गन्ने की पत्तियों के दोनों किनारे अंदर की ओर हल्के मुड़े हुए होते हैं।
  • पोरी का नीचे का भाग थोड़ा पतला और ऊपर का भाग मोटा होता है।
  • इस किस्म की आंख पोरी के साथ चिपकी हुई होती है। और आंख के पास नाली नहीं होती।
  • इसकी गन्ने का रंग हल्का सफेद होता है।

COS-17231 गाना किस्म की औसत पैदावार

गन्ना की इस किस्म की औसत पैदावार 350 से 400 क्वांटल प्रति एकड़ तक रहती है। गन्ने की इस किस्म की पैड़ी का फुटाव अच्छा होने के कारण इसकी पैड़ी भी पौधा गन्ना जितनी पैदावार आसानी से दे देती है।

नोट-किसान साथी गन्ना बिजाई करते समय बीज उपचार फफूंदीनाशक और कीटनाशक से अवश्य करें।

आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी। कृपया कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं और इसे आगे अन्य किसानों तक अवश्य शेयर करें। धन्यवाद!

ये भी पढ़ें- जल भराव वाले क्षेत्रों में तहलका मचाएगी गन्ने की यह किस्म

गन्ने में चोटी बेधक|Top Boror In Sugarcane

गन्ने में इस प्रकार करें पायरिला नियंत्रण:pyrilla control in sugarcane

गन्ने में कंसुआ का इलाज|stem boror control in sugarcane

Kheti jankari

खेती जानकारी एक ऐसी वेबसाइट है। जिसमें आपको कृषि से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यहां आप कृषि, पशुपालन और कृषि यंत्रों से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Leave a Comment