सरसों में फालियाँ निकलने पर रोगों से बचाव और चमकदार दानों के लिए जरूरी स्प्रे:Main spray for ear bud formation in mustard

By Kheti jankari

Updated on:

सरसों में फालियाँ निकलने पर रोगों से बचाव और चमकदार दानों के लिए जरूरी स्प्रे

सरसों में फालियाँ निकलने पर रोगों से बचाव और चमकदार दानों के लिए जरूरी स्प्रे। सरसों में मुख्या स्प्रे, सरसों की खेती, सरसों में कीटनाशक, सरसों में पोटाश का स्प्रे, सरसों में फफूंदीनाशक, सरसों में बालियाँ निकलने पर मुख्य स्प्रे। Main spray for ear bud formation in mustard.

सरसों में पाले से नुक्सान:क्या करें किसान, कृषि वैज्ञानिकों ने बताएं यह आसान तरीका

किसान साथियों नमस्कार, सरसों की फसल लगभग पकने को तैयार है। लगभग सभी किसानों की सरसों की फसल में फलियां निकल चुकी हैं। फलियाँ निकलने पर दानों की मोटाई और चमक बढ़ाने में पोटाश सबसे अधिक सहायक होता है, और पौधे को भी ताकत देता है। बालियाँ निकलने पर हम पोटाश के साथ-साथ किन चीजों का स्प्रे करें की हमारी फसल रोगों से भी बची रहे। इस बारे में संपूर्ण जानकारी के लिए कृपया पुरा लेख पढ़ें।

सरसों में फालियाँ निकलने पर ध्यान रखने योग्य बातें

  • सरसों में बालियाँ निकलने के समय हमें खेत में पर्याप्त नमी बनाई रखनी चाहिए। क्योंकि इस समय पौधे को नमी की अधिक आवश्यकता होती है। जिससे दानों का भराव अच्छे से हो सकें।
  • पानी देते समय ध्यान रहें, कि तेज हवा ना चले जिससे आपकी सरसों गिरने से बची रहे।
  • इस समय दिन में धूप और रात का तापमान थोड़ा ठंडा होता है। इसलिए फफूंदीजनक और कीट रोगों का भी अटैक देखने को मिलता है। इसलिए अपने खेत की समय-समय पर निगरानी करते रहें।

सरसों में दूसरी सिंचाई पर डालें ये दमदार खाद:मिलेगी 1 से 2 कुंतल अधिक पैदावार

सरसों में फालियाँ निकलने पर मुख्य स्प्रे

सरसों की बालियाँ निकलने पर हमें एनपीके 00-00-50 की 1 किलोग्राम प्रति एकड़ या फिरएफएमसी (लीजेंड) की 48 ग्राम मात्रा का प्रयोग करें। इसके साथ कीटनाशक में थियामेथोक्सम 25% की 100 ग्राम मात्रा प्रति एकड़ और फफूंदीनाशक में टेबुकोनाज़ोल: 10% + सल्फर: 65% डब्ल्यूजी 500ml प्रति एकड़ या फिर मेटलैक्सिल 4% + मैन्कोजेब 64% WP 250 ग्राम प्रति एकड़ या प्रोपिकोनाज़ोल 25% ई.सी 250ml प्रति एकड़ को आपस में घोल बनाकर 150 से 200 लीटर पानी में स्प्रे कर सकते हैं।

इस एक स्प्रे से आपकी सरसों की सभी रोगों का समाधान हो जाएगा और आपको आगे कुछ भी नुकसान उठाना नहीं पड़ेगा। आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी। तो कृपया कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं और इसे आगे अन्य किसानों तक अवश्य शेयर करें। धन्यवाद!

ये भी पढ़ें- सरसों में तेजी से फ़ैल रहा है, सफेद तना गलन रोग कैसे करें रोकथाम

सरसों में यूरिया डालने का सही समय और मात्रा के बारे में जाने

सरसों वाले किसान सावधान:समय पर करें इस रोग की रोकथाम नहीं तो नष्ट हो सकती है आपकी सरसों की फसल

सरसों की फसल में अधिक उत्पादन और तेल की मात्रा बढ़ने वाला सबसे ताकतवर खाद

Kheti jankari

खेती जानकारी एक ऐसी वेबसाइट है। जिसमें आपको कृषि से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यहां आप कृषि, पशुपालन और कृषि यंत्रों से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Leave a Comment