लहसुन में कंद बनने के समय करें इस ताकतवर खाद का इस्तेमाल:लहसुन की मोटाई और वजन बढ़ाने का आसान तरीका:The most powerful fertilizer used in garlic

By Kheti jankari

Updated on:

लहसुन में कंद बनने के समय करें इस ताकतवर खाद का इस्तेमाल

लहसुन में कंद बनने के समय करें इस ताकतवर खाद का इस्तेमाल। लहसुन की मोटाई और वजन बढ़ाने का आसान तरीका। लहसुन की खेती। लहसुन में खाद। लहसुन में कैल्शियम नाइट्रेट की मात्रा। लहसुन में प्रयोग होने वाला सबसे ताकतवर खाद। कैल्शियम नाइट्रेट का लहसुन में कब प्रयोग करें। सब्जी की खेती। The most powerful fertilizer used in garlic

लहसुन में पीलापन:पौधे के पत्ते ऊपर से सूखने का मुख्या कारण, कृषि जानकार ने बताया ये तरीका

लहसुन एक कंद वर्गीय फसल है। लहसुन जमीन के अंदर तैयार होता है। इसको कंद को उखाड़ कर बाजार में बेचा जाता है। लहसुन से किसान भाई अच्छी पैदावार लेने के लिए तरह-तरह के खादों और न्यूट्रिएंट्स का प्रयोग करते हैं। आज मैं आपको ऐसे खाद के बारे में बताऊंगा, जो कंद वर्गीय फसलों में बड़े अच्छे रिजल्ट निकल कर देता है। कंद का साइज बढ़ाने के साथ-साथ यह कंद का वजन बढ़ाने में भी सहायता करता है। इस खाद के बारे में जानने के लिए कृपा पुरा लेख पढ़ें।

लहसुन में प्रयोग होने वाला सबसे ताकतवर खाद

लहसुन की फसल में आप कंद का वजन और साइज बढ़ाने के लिए कैल्शियम नाइट्रेट का प्रयोग कर सकते हैं। यह कंद वर्गीय फसलों के लिए एक बड़ा अच्छा उत्पाद है। कैल्शियम नाइट्रेट द्वितीय पोषक तत्व में आता है। कैल्शियम नाइट्रेट आपको बाजार में कई प्रकार के मिलते हैं। कुछ बोरोनेट कैल्शियम नाइट्रेट होते हैं। जिनमें कैल्शियम के साथ बोरोन मिक्स होता है। और कुछ में कैल्शियम के साथ-साथ कुछ और सूक्ष्म पोषक तत्व भी मिक्स होते हैं।

लहसुन में लगने वाले सबसे ख़तरनाक फफूंदी जनित रोग:लहसुन की ऊपर की पत्तियों का सूखना,कैसे करें रोकथाम:सम्पूर्ण जानें

पोषक तत्वों को तीन भागों में बांटा जाता है। प्राथमिक पोषक तत्व, द्वितीय पोषक तत्व और सूक्ष्म पोषक तत्व। प्राथमिक पोषक तत्व में हमारे नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटाश आते हैं। द्वितीय पोषक तत्व में कैल्शियम, सल्फर और मैग्नीशियम तत्व आते हैं। और सूक्ष्म पोषक तत्वों में हमारे अन्य जो भी पोषक तत्व हैं, जैसे- मॉलीब्लेडिनम, जिंक, आयरन, बोरोन और अन्य सभी तत्व जो पौधे के लिए जरूरी होते है।

कैल्शियम नाइट्रेट का लहसुन में कब प्रयोग करें

कैल्शियम नाइट्रेट का प्रयोग लहसुन में कंद बनने के समय करना चाहिए। जब आपका कंद बनने लगे, उसे समय आप कैल्शियम नाइट्रेट का प्रयोग करें। यह अवस्था 75 से 80 दिन के लगभग लहसुन में आती है। 90 दिन के बाद लहसुन में आपको किसी भी प्रकार के कोई खाद प्रयोग करने का लाभ इतना नहीं मिलने वाला। इसलिए पूरा लाभ लेने के लिए समय पर खादों का प्रयोग करना चाहिए।

लहसुन में कैल्शियम नाइट्रेट की मात्रा

लहसुन में कैल्शियम नाइट्रेट की 20 से 25 किलोग्राम मात्रा प्रति एकड़ प्रयोग की जाए की जानी आवश्यक है। कैल्शियम नाइट्रेट को आप यूरिया के साथ या अकेले भी प्रयोग कर सकते हैं। लेकिन कैल्शियम नाइट्रेट को किसी भी सल्फेट खाद के साथ मिलकर नहीं डालना चाहिए। कैल्शियम नाइट्रेट आपको अलग कंपनियों को अलग-अलग नाम से बाजार में देखने को मिल जाता है। जैसे- यारालिवा नाइट्राबोर (15.4% एन + 25.9% सीएओ + 0.3% बी), श्रीराम एनर्जी (कैल्शियम नाइट्रेट) और ग्रोमोर पावर कैल्शियम नाइट्रेट (एन 15.5% सीए 18.5%) भी बहुत कंपनियों का आपको कैल्शियम बाजार में देखने को मिल जाएगा। आप किसी भी अच्छी कंपनी का लेकर प्रयोग कर सकते हैं।

आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी। कृपया कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं और इसे आगे दूसरे किसानों तक भी अवश्य शेयर करें। धन्यवाद!

ये भी पढ़ें – गुड़ाई के समय लहसुन में क्या डालें:जड़ गलन समस्या व जड़ के कीड़े की रोकथाम,कृषि वैज्ञानिक

टमाटर की टॉप 5 हाइब्रिड किस्में

तरबूज की टॉप 5 किस्में:जो किसानों द्वारा सबसे अधिक पसंद की जाती है

शिमला मिर्च की उन्नत खेती कैसे करें

Kheti jankari

खेती जानकारी एक ऐसी वेबसाइट है। जिसमें आपको कृषि से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यहां आप कृषि, पशुपालन और कृषि यंत्रों से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

3 thoughts on “लहसुन में कंद बनने के समय करें इस ताकतवर खाद का इस्तेमाल:लहसुन की मोटाई और वजन बढ़ाने का आसान तरीका:The most powerful fertilizer used in garlic”

Leave a Comment