लेट बजाई और रोगों से लड़ने की क्षमता रखने वाली इस खास गेहूं किस्म की बिजाई करें(2023):Wheat variety of Punjab Agricultural University

By Kheti jankari

Updated on:

लेट बजाई और रोगों से लड़ने की क्षमता रखने वाली इस खास गेहूं किस्म की बिजाई करें

लेट बजाई और रोगों से लड़ने की क्षमता रखने वाली इस खास गेहूं किस्म की बिजाई करें। Wheat variety of Punjab Agricultural University.PB-373 गेहूं किस्म की विशेषताएं। PB-373 गेहूं किस्म की औसत पैदावार। PB-373 गेहूं किस्म का बजाई समय। PB-373 गेहूं किस्म का पकाने का समय। लेट बजाई वाली गेहूं किस्म। सबसे अच्छी गेहूं किस्म।

Pusa veshash wheat variety

अलग-अलग राज्यों में सरकारों द्वारा कृषि विश्वविद्यालय और अनुसंधान संस्थान स्थापित किए गए हैं। ताकि वह किसानों के लिए अच्छे-अच्छे बीजों का उत्पादन कर सकें। जिससे किसान की आय बढ़ें और उन्हें अधिक लाभ हो। ऐसे ही पंजाब के वैज्ञानिकों द्वारा एक गेहूं किस्म PB-373 लेट बिजाई के लिए निकल गई थी। यह गेहूं किस्म 1996 में निकाली गई। गेहूं की समय यह एक पुरानी गेहूं किस्म है। लेकिन आज भी किसान इसे पसंद करते हैं। इस गेहूं किस्म के बारे में संपूर्ण जानकारी नीचे जानें-

PB-373 गेहूं किस्म की विशेषताएं

गेहूं की PB-373 गेहूं किस्म पंजाब कृषि विश्वविद्यालय द्वारा बनाई गई एक रिसर्च गेहूं किस्म है। यह एक मध्यम ऊंचाई वाली गेहूं किस्म है। इसकी ऊंचाई 90 सेंटीमीटर के लगभग रहती है। यह गेहूं किस्म रोगों के प्रति सहनशील है। पीला रतुआ और भूरा रतुआ जैसे रोग इस किस्म में नहीं लगते। इस किस्म का मुख्य उपयोग रोटी बनाने और बिस्कुट बनाने के लिए किया जाता है। इस किस्म की बिजाई आप दिल्ली, पंजाब, हरियाणा में मुख्य रूप से कर सकते हैं।

गेहूँ किस्म HD-2967 की खूबियाँ जानें

PB-373 गेहूं किस्म की औसत पैदावार

PB-373 गेहूं किस्म की औसत पैदावार 18 कुंतल प्रति एकड़ तक रहती है। लेकिन इस किस्म से आप 20 कुंतल प्रति एकड़ तक अधिकतम पैदावार ले सकते हैं।

PB-373 गेहूं किस्म का पकाने का समय

गेहूं की यह किस्म पकने में 126 दिन से 130 दिन का समय लेती है। पकाने का समय आपकी मिट्टी और आपकी जलवायु पर निर्भर करता है।

PB-373 गेहूं किस्म का बजाई समय

PB-373 गेहूं किस्म की बिजाई आप 20 नवंबर से लेकर 20 दिसंबर तक कर सकते हैं। गेहूं की यह किस्म कम समय में पकती है। इसलिए आप इसकी बिजाई अगर पूरे दिसंबर भी करना चाहे तो कर सकते हैं।

नोट-गेहूं किस्म की बिजाई करते समय फूफंदीनाशक और कीटनाशक से बीज उपचार अवश्य करें। ताकि गेहूं बीज का अच्छा जमाव हो सके।

बहुत से किसान होंगे जो PB-373 गेहूं किस्म की बिजाई लंबे समय से करते आ रहे हैं। जिन किसान भाइयों ने इस किस्म की बिजाई नहीं की, वह स्वादिष्ट रोटी के लिए इस गेहूं किस्म की बिजाई कर सकते हैं। धन्यवाद!

FAQ

सबसे पौष्टिक गेहूं कौन सा है?
C-306 गेहूं किस्म जो शरबती के नाम से जानी जाती है सबसे अधिक पौष्टिक गेहूं है।

ये भी पढ़ें- कम पानी वाली जमीन में भी अच्छी पैदावार देती है गेहूं की यह खास किस्म

पंजाब कृषि विश्वविद्यालय की पुरानी और सबसे लोकप्रिय गेहूं किस्म के बारे में जानें

गेहूं की इन किस्मों को आपस में मिलाकर करें बजाई मिलेगी अधिक पैदावार

चौधरी चरण सिंह हरियाणा एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित गेहूं किस्म डब्ल्यू एच–1270 की विशेषताएं जानें

गेहूं की सर्वोत्तम किस्में

कल्लर जमीन या जल भराव वाले क्षेत्रों के लिए जानी जाती है गेहूं की यह किस्म

  • मक्का का सबसे खतरनाक कीट रोग:समय पर कंट्रोल जरूरी, सावधान रहे किसान

    मक्का का सबसे खतरनाक कीट रोग:समय पर कंट्रोल जरूरी, सावधान रहे किसान

  • सोयाबीन में खरपतवार नियंत्रण करने का सही तरीका

    सोयाबीन में खरपतवार नियंत्रण करने का सही तरीका:बेस्ट खरपतवार नाशक, किस समय प्रयोग करें, संपूर्ण जाने

  • सोयाबीन की खेती कैसे करें

    सोयाबीन की खेती कैसे करें:सही समय, कौन सा खाद डालें, बीज मात्रा, संपूर्ण जाने

  • मक्का में खरपतवार नाशकों का प्रयोग करते समय ध्यान रखने योग्य मुख्य बातें

    मक्का में खरपतवार नाशकों का प्रयोग करते समय ध्यान रखने योग्य मुख्य बातें:Main precautions while using herbicides in maize

Kheti jankari

मैं एक किसान हूँ, और खेती में एक्सपर्ट लोगो से मेरा संपर्क है। मैं उनके द्वारा दी गयी जानकारी और अनुभव को आपके साथ साँझा करता हूँ। मेरा प्रयास किसानों तक सही जानकारी देना है। ताकि खेती पर हो रहे खर्च को कम किया जा सके।

Leave a Comment