गन्ना बिजाई में इन कीटनाशकों का प्रयोग किया तो नहीं लगेगा कोई कीट रोग:Major pesticides in sugarcane sowing

By Kheti jankari

Published on:

गन्ना बिजाई में इन कीटनाशकों का प्रयोग किया तो नहीं लगेगा कोई कीट रोग

गन्ना बिजाई में इन कीटनाशकों का प्रयोग किया तो नहीं लगेगा कोई कीट रोग, गन्ना बिजाई के समय कौन सा कीटनाशक प्रयोग करें, गन्ने की बिजाई कैसे करें, गन्ना बिजाई में प्रमुख कीटनाशक, गन्ने में कीटनाशकों का महत्व, गन्ने में प्रमुख रोग, Major pesticides in sugarcane sowing.

गन्ने की रिंग पिट विधि:कहां फेल होते हैं किसान, बिजाई करते समय क्या सावधानियां रखें

गन्ने की बिजाई के समय जितना जितना महत्व खादों का होता है, उतना ही कीटनाशकों का भी होता है। क्योंकि जमीन के अंदर दीमक और सफेद गिडार जैसे कीट गन्ने में अधिक मात्रा में लगते हैं। जो आपके गन्ने के जमाव को तो प्रभावित करते ही है, और गन्ने की जड़ों को खाकर खराब कर देते हैं। जिससे आपकी पैदावार में गिरावट आती है। गन्ने में जमाव के बाद भी कीटों का अधिक प्रकोप भी अधिक देखने को मिलता है। अगर आप एक अच्छे कीटनाशक का इस्तेमाल करते हैं। तो आपकी फसल में जमीन के अंदर और जमीन के बाहर कीटनाशकों का अटैक कम देखने को मिलता है ,आज मैं आपको गन्ने में प्रयोग होने वाले कुछ महत्वपूर्ण कीटनाशकों के बारे में बताऊंगा। जिनका प्रयोग करके आप अपनी फसल से लंबे समय तक कीटों से बचाव कर सकते हैं।

गन्ना बिजाई में प्रमुख कीटनाशक

गन्ने की बिजाई में कीटनाशकों की बात करें, तो आपको दानेदार और तरल फार्म वाले काफी सारे कीटनाशक बाजार में देखने को मिलते हैं। इन कीटनाशकों में से कुछ का प्रयोग सिर्फ स्प्रे में किया जाता है, तथा कुछ का प्रयोग आप स्प्रे और खाद या रेत में मिलकर अपनी खेत में छिड़काव कर सकते हैं। जब हम गन्ना बिजाई करते हैं, इस समय हमें कीटनाशकों का प्रयोग करना पड़ता है। जिससे वह गन्ने की बीज की पास चले जाएं और उसको लंबे समय तक सुरक्षित रखें। गन्ने में प्रयोग होने वाले मुख्य कीटनाशक नीचे बताए गए है।

CO-0238 से अधिक पैदावार निकाल कर देती है गन्ने की यह अगेती किस्म

  • लेसेंटा– लेसेंटा बायर क्रॉप साइंस द्वारा दिया गया एक उत्पाद है। इसमें इमिडाक्लोप्रिड 40% + फिप्रोनिल 40% w/w WG टेकिन्कल पाया जाता है। इसकी 150g से 200g मात्रा प्रति एकड़ प्रयोग की जाती है। इसका प्रयोग स्प्रे के द्वारा आमतौर पर करते हैं। यह आपकी फसल को 40 से 50 दिनों तक कीटों से रोकथाम करता है।
  • रीजेंट अल्ट्रा– रीजेंट अल्ट्रा बायर क्रॉप साइंस का ही एक प्रोडक्ट है। इसमें फिप्रोनिल 0.6 जीआर टेक्निकल पाया जाता है। इसकी 5 से 6 किलोग्राम मात्रा प्रति एकड़ प्रयोग की जाती है। इसका प्रयोग खाद या मिट्टी में मिलाकर मिटटी में किया जाता है। यह आपकी फसल से 30 से 40 दिन तक कीटों से बचाव करता है।
  • थियामेंथोक्सम 25% डब्ल्यूजी 1 किलोग्राम प्रति एकड़ + क्लोरपाइरीफोस 50% 1 लीटर प्रति एकड़ को साथ में मिलकर भी अपनी फसल में स्प्रे कर सकते हैं। इसके भी आपको काफी अच्छे परिणाम देखने को मिलते हैं। ये भी लम्बे समय तक आपकी फसल को कीटों से बचाएगी।
  • डेनटोटसू– डेनटोटसू सुमितोमो कैमिकल का एक उत्पाद है। इसमें क्लॉथियानिडिन 50 डब्ल्यूडीजी टेक्निकल पाया जाता है। इसकी 100g से 150g मात्रा प्रति एकड़ प्रयोग की जाती है। इसके गन्ने में काफी अच्छे रिजल्ट देखने को मिलते है।
  • सैन्टाना– सैन्टाना भी सुमितोमो कैमिकल का एक उत्पाद है। इसमें क्लॉथियानिडिन 0.5% टेक्निकल पाया जाता है। इसकी 4kg से 5kg मात्रा प्रति एकड़ प्रयोग की जाती है। इसके सफ़ेद गिडार पर काफी अच्छे रिजल्ट मिलते है।

ऊपर दिए गए आप किसी भी कीटनाशक का प्रयोग कर सकते हैं। यह अपने आप में काफी अच्छे कीटनाशक हैं, और उनके किसानों द्वारा काफी अच्छे परिणाम भी लिए जा रहे हैं। आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी। कृपया कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं ताकि अन्य किसान भी इससे सहायता ले सकें। धन्यवाद!

ये भी पढ़ें- गन्ने की बुवाई करते समय कृषि वैज्ञानिकों द्वारा बताई गई खाद पद्धति को जानें

गन्ने में जड़ बेधक का नियंत्रण कैसे करें:गन्ने की ऊपरी पत्तियां पीली होने का कारण

गन्ने की नई किस्म Co-13235 की विशेषताएं:रोग रहित गन्ना किस्म

गन्ने में अधिक फुटाव, लंबाई और मोटाई के लिए संपूर्ण खाद

Kheti jankari

खेती जानकारी एक ऐसी वेबसाइट है। जिसमें आपको कृषि से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यहां आप कृषि, पशुपालन और कृषि यंत्रों से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Leave a Comment