गेहूं की बुर (फूल) अवस्था:पैदावार बढ़ाने के लिए यह बातें ध्यान रखना जरूरी:Things to keep in mind during the flowering stage of wheat

By Kheti jankari

Published on:

गेहूं की बुर (फूल) अवस्था

गेहूं की बुर (फूल) अवस्था, गेहूं की खेती, गेहूं में अधिक पैदावार के लिए क्या करें, गेहूं में पैदावार बढ़ाने के लिए यह बातें ध्यान रखना जरूरी, गेहूं में स्प्रे किस समय करें, गेहूं में खाद डालने का सही समय, Things to keep in mind during the flowering stage of wheat.

गेहूं में बालियां निकलने पर कौनसा स्प्रे करें:महत्वपूर्ण बातें, पैदावार बढ़ाने का सही समय

आपकी गेहूं की पैदावार काफी चीजों पर निर्भर करती है। सही समय पर खाद, पानी और स्प्रे प्रबंधन, सही खेत और बीज का चुनाव आपकी पैदावार को बढ़ा या घटा सकते है। गेहूं या अन्य फसल की पैदावार में मौसम भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। मौसम पर भी आपकी पैदावार काफी हद तक निर्भर करती है। यह सब तो प्रकृति पर निर्भर है, लेकिन आप भी कुछ बातों का ध्यान रखकर अपनी गेहूं की पैदावार को 1 से 2 क्वांटल तक बढ़ा या घटा सकते हैं। अगर आप गलत समय पर स्प्रे या उसमें खादों का प्रयोग करते हैं, तो हमें लाभ की बजाय हानि उठानी पड़ सकती है। इसलिए मैं आपको ऐसी कुछ बातें बताऊंगा, जिनका ध्यान में रखकर आप अपनी पैदावार को बढ़ा सकते हैं।

गेहूं की बुर (फूल) अवस्था में ध्यान रखने योग्य बातें

गेहूं की बुर (फूल) अवस्था एक ऐसा समय होता है। जब आपके खेत में दाने बनने की प्रक्रिया शुरू होती है। इस समय तापमान और आपके द्वारा प्रयोग की चीजों का काफी ज्यादा महत्व होता है। गेहूं की बुर (फूल) अवस्था में हमें कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। जिससे पैदावार को बढ़ाया जा सकता है। यह कुछ बातें नीचे बताई गई है।

गेहूं में बोरोन का प्रयोग:बोरोन पैदावार बढ़ाने में कैसे मदद करती है, कब प्रयोग करें

  • इस समय पौधे को अधिक पानी की आवश्यकता होती है। क्योंकि पानी ही दाने तक खाना पहुंचाने का कार्य करता है। इसलिए इस समय आपके खेत में नमी बनाई रखनी काफी ज्यादा आवश्यकता है।
  • दूसरा पानी आपको हमेशा अगला तीन-चार दिन का मौसम देखकर ही चलनी चाहिए। अगर तीन-चार दिन तक तेज हवाएं चलती हैं, तो आप पानी को आगे या पीछे कर सकते हैं। गेहूं की गिरने से भी पैदावार कम होती है।
  • तीसरा बुर (फूल) अवस्था में आपको सुबह 9 से 3 बजे तक खेत में किसी भी प्रकार का कोई स्प्रे नहीं करना चाहिए। अगर आप बुर (फूल) अवस्था में स्प्रे करना चाहते हैं। तो आपको 3:00 बजे के बाद ही करना चाहिए। वैसे तो अगर अपना ही करें, तो ज्यादा बेहतर रहता है।
  • दिन में गर्मी अधिक होने की वजह से कई बार पौधे अपना संभोग नहीं कर पाते और इससे आपके दाने खाली या छोटे-बड़े आकार के दिखाई देते हैं। इसी के कारण पौधे की नीचे की बालियां खाली नजर आती हैं।
  • किसान साथियों अगर आप स्प्रे करते हैं, तो उसमें साफ और ताजे पानी का ही इस्तेमाल करें।
  • स्प्रे में आप अच्छी कंपनी की और बराबर मात्रा में दवाइयां लेकर ही स्प्रे करें।

आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी। कृपया कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं और इसे आगे अन्य किसानों तक अवश्य शेयर करें। धन्यवाद!

ये भी पढ़ें- गेहूं में सस्ता स्प्रे और शानदार पैदावार:कृषि वैज्ञानिक ने बताई महत्पूर्ण बातें

गेहूं की गोभ अवस्था में अराइज एग्रो लिमिटेड के इस उत्पाद का करें प्रयोग:गेहूं के लिए सबसे दमदार चीज

गेहूं में कितने दिन तक यूरिया का प्रयोग करें:बाद में करने का कितना नुकसान

गेहूं में एनपीके, बोरोन और फंगीसाइड को मिक्स करके स्प्रे कर सकते हैं, या नहीं:क्या कहते हैं कृषि जानकारी

Kheti jankari

खेती जानकारी एक ऐसी वेबसाइट है। जिसमें आपको कृषि से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यहां आप कृषि, पशुपालन और कृषि यंत्रों से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Leave a Comment