3 महीने में पकने वाली मक्का की एकमात्र किस्म:किसानों की पहली पसंद:Hybrid maize variety from Bayer Seeds

By Kheti jankari

Updated on:

3 महीने में पकने वाली मक्का की एकमात्र किस्म

3 महीने में पकने वाली मक्का की एकमात्र किस्म। मक्का की खेती। मक्का की हाइब्रिड किस्म। मक्का की उन्नत किस्म। मक्का की अधिक पैदावार देने वाली किस्म। DKC-9108 प्लस मक्का किस्म। कम समय में पकने वाली मक्का किस्म। Hybrid maize variety from Bayer Seeds.

55 से 60 की कुंतल तक पैदावार देने वाली मक्का किस्म:किसानों को अमीर बनने वाली किस्म

किसान साथियों नमस्कार, इस समय आलू की खुदाई लगभग शुरू हो चुकी है। आलू की खुदाई के बाद किसान भाई मक्का की बिजाई मुख्या तौर पर शुरू कर देते हैं। मक्का की एक ऐसी फसल है। जिसको आप दो फसलों के बीच में भी ले सकते हैं। यह कम समय पकाने वाली और अधिक पैदावार देने वाली खेती है। मक्का की काफी सारी किस्म बाजार में आपको देखने को मिल जाती हैं। एक किस्म जो बायर सीड्स द्वारा दी जाती है। यह लगभग तीन महीने में पक कर तैयार हो जाती है। मक्का की यह किस्म DKC-9108 प्लस के नाम से जानी जाती है। मक्का की इस किस्म की औसत पैदावार, पकाने का समय और बिजाई समय जानने के लिए कृपया पुरा लेख पढ़ें।

DKC-9108 प्लस मक्का किस्म की विशेषताएं

DKC-9108 प्लस बायर सीड्स द्वारा दी गई मक्का की एक हाइब्रिड किस्म है। इस किस्म के भुट्टे का रंग पीला होता है। इसके दाने लंबे और चमकदार होते हैं। इस किस्म में गिल्ली काफी पतली बनती है। इस किस्म की बिजाई आप सभी राज्यों में कर सकते हैं। यह एक ऐसी किस्म है, जो सभी प्रकार की मिट्टी में आपको अच्छी पैदावार निकाल कर देती है। इस किस्म की लाइन से लाइन की दूरी 2 फीट और पौधे से पौधे की दूरी लगभग 1 फीट रखी जाती है। मक्का की यह किस्म गर्मी सहन करने की क्षमता अधिक रखती है। इस किस्म का पौधा पकाने के बाद भी हरा रहता है।

PAC-751 (इलाईट) मक्का की हाइब्रिड किस्म:पैदावार के मामले में इस किस्म का नहीं है कोई मुकाबला

DKC-9108 प्लस मक्का किस्म का पकने का समय

मक्का की यह किस्म 80 से 90 दिन में पैक कर तैयार हो जाती है। इस किस्म की बिजाई आप जायद के सीजन में कर सकते हैं। इस समय यह किस्म काफी अच्छी पैदावार निकाल कर देती है।

DKC-9108 प्लस मक्का किस्म की औसत पैदावार

DKC-9108 प्लस मक्का किस्म 35 से 40 क्वांटल प्रति एकड़ तक पैदावार आसानी से दे देती है। यह कम समय पकाने वाली किस्म है। इसलिए यह इसकी काफी अच्छी पैदावार है। मक्का की इस किस्म का 7 से 8 किलोग्राम बीज प्रति एकड़ प्रयोग किया जाता है।

नोट-किसान साथी बजाई करते समय बीज उपचार फफूंदीनाशक और कीटनाशक से अवश्य करें।

आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी। कृपया कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं और इसे आगे अन्य किसानों तक अवश्य शेयर करें। धन्यवाद!

ये भी पढ़ें- 100 दिन में पकने वाली मक्का की हाइब्रिड किस्म:किसानों की मन पसंद किस्म

लंबे दोनों वाली एडवांटा सीड्स की हाइब्रिड मक्का किस्म:औसत पैदावार, बजाई समय

पुरे देश में अच्छी पैदावार के लिए जानी जाती है मक्का की यह हाइब्रिड किस्म:बिजाई समय, औसत पैदावार

काली मिट्टी में सबसे अच्छी पैदावार निकाल कर देती है, मक्का की यह किस्म

Kheti jankari

खेती जानकारी एक ऐसी वेबसाइट है। जिसमें आपको कृषि से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यहां आप कृषि, पशुपालन और कृषि यंत्रों से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Leave a Comment