मूंग में बिजाई के समय बेस्ट खाद कॉन्बिनेशन:मूंग बिजाई करने का सही समय और तरीका जानें:Which fertilizers should be applied in moong

By Kheti jankari

Updated on:

मूंग में बिजाई के समय बेस्ट खाद

मूंग में बिजाई के समय बेस्ट खाद कॉन्बिनेशन। मूंग की खेती। मूंग से अधिक पैदावार लेने का तरीका। मूंग में कौन- कौन से खाद डालें। मूंग में खरपतवार नियंत्रण। मूंग बिजाई करने का सही समय। मूंग में सिंचाई समय। Which fertilizers should be applied in moong.

मिर्च की रोपाई से पहले खेत की तैयारी:कौन-कौन से खाद डालें, बेस्ट कांबिनेशन

मूंग एक दलहनी फसल है। जिसकी बिजाई का सही समय 15 फरवरी से लेकर 30 मार्च तक का रहता है। यह बजाई समय आपकी किस्म पर निर्भर करता है, कि आप कौन सी किस्म का चयन करते हो। कम से समय पकाने वाली किस्म की लेट बजाई होती है, और अधिक समय पकाने वाली किस्म की बिजाई जल्दी करनी पड़ती है। मूंग एक ऐसी फसल है, जिसको कम मात्रा में खादों की आवश्यकता पड़ती है। इसमें रोग भी बहुत कम मात्रा में लगते हैं। हमें मूंग की बिजाई के समय कौन-कौन से खादों का प्रयोग करना चाहिए और इसमें कब पानी देना चाहिए। इन सब के बारे में संपूर्ण जानकारी के लिए कृपया पुरा लेख पढ़ें।

मूंग में बिजाई के समय बेस्ट खाद

मूंग की फसल में वैसे तो नाइट्रोजन की आवश्यकता बहुत कम मात्रा में पड़ती है। लेकिन फिर भी हमें बिजाई के समय इसमें 20 किलोग्राम यूरिया, 50 किलोग्राम डीएपी और 30 किलोग्राम पोटाश प्रति एकड़ के हिसाब का आपस मिलकर खेत में डालना चाहिए। अगर आप सीड ड्रिल से मूंग की बिजाई करते हैं, तो इन खादों को मशीन के द्वारा ही आप खेत में बिखेर दें। अगर आप हाथ से बिजाई करते हैं, तो जुताई से पहले इन खादों को अपने खेत में बिखरे दें। इसके बाद आपको मूंग में किसी भी प्रकार का कोई खाद डालने की आवश्यकता नहीं पड़ती। अगर आप चाहते हैं, तो इसके साथ आप वर्मी कंपोस्ट भी 5 से 6 क्विंटल प्रति एकड़ के हिसाब से डाल सकते हैं। गर्मी में मूंग की बिजाई में हमें 10 से 12 किलोग्राम बीज प्रति एकड़ प्रयोग करना चाहिए। बजाई करते समय बीज उपचार फफूंदीनाशक और कीटनाशक से अवश्य करें। ताकि फसल रोगों से बची रहे।

पंजाब के विज्ञानिकों द्वारा तैयार की गयी मूंग किस्म

मूंग में खरपतवार नियंत्रण

मूंग की फसल में एक से दो बार निराई-गुड़ाई करनी ही पड़ती है। इसलिए हमें उसमें की खरपतवार नाशक दवाइयां का प्रयोग करने की आवश्यकता नहीं पड़ती। पहली निराई-गुड़ाई हम 20 से 25 दिन पर और दूसरी 40 से 45 दिन पर करते हैं। जिससे उसमें उगे हुए सभी खरपतवार आसानी से नष्ट हो जाते हैं, और आपकी फसल भी अधिक बढ़वार करती है।

मूंग में सिंचाई समय

मूंग की फसल 60 से 70 दिन में तक पैक कर तैयार हो जाती है। इस समय गर्मी अधिक पड़ती है, इसलिए इसमें हमें 5 से 6 सिंचाई आराम से करनी पड़ती है। कुछ मिट्टी में तो 6 से अधिक सिंचाई भी हो जाती है। जब भी फसल को जरूरत हो तभी पानी लगाना चाहिए।

नोट-किसान साथी इसके अतिरिक्त मूंग में किसी भी प्रकार का फंगस या कीट रोग दिखाने पर आप तुरंत फफूंदीनासकों और कीटनाशकों का स्प्रे अवश्य कर दें।

आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी। कृपया कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं और इसे आगे अन्य किसानों तक अवश्य शेयर करें। धन्यवाद!ये

ये भी पढ़ें- मार्च में बिजाई के लिए सबसे उपयुक्त है, मूंग की यह किस्म

कम पानी में भी अधिक उत्पादन देती है, मूंग की यह किस्म

भारतीय दलहन अनुसंधान संस्थान द्वारा तैयार की गई मूंग की सबसे अच्छी किस्म

मूंग की 14 क्वांटल तक पैदावार देने वाली किस्म:अधिक पैदावार वाली मूंग की एक मात्र किस्म

Kheti jankari

खेती जानकारी एक ऐसी वेबसाइट है। जिसमें आपको कृषि से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यहां आप कृषि, पशुपालन और कृषि यंत्रों से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

1 thought on “मूंग में बिजाई के समय बेस्ट खाद कॉन्बिनेशन:मूंग बिजाई करने का सही समय और तरीका जानें:Which fertilizers should be applied in moong”

  1. Faslon ki sahi jankari v beejo ki sahi jaankari abhi bhi sabhi kissano tak nahi pahunch rahi h jabki kisaan lagatar us nuksan ko jhelta aa raha h sahi beejo ki samay par uplabhdata v khado ko jarurat k samay na milna issey badi kiya paresani ho sakti h or fasal paktey samay bijli mein katauti karna ye sabhi dukho ka main karan h

    Reply

Leave a Comment