खेती जानकारी

बंपर पैदावार के लिए इस समय करें गेहूं की बिजाई(2023):Right time to sow wheat

गेहूं की बिजाई हम तीन चरणों में करते हैं- पहले चरण अगेती बजाई के लिए, दूसरा चरण समय पर बिजाई के लिए और तीसरा चरण पिछेती बिजाई के लिए। पहले चरण में हम उन किस्मों का चयन करना चाहिए हैं, जो पकने में अधिक समय लेती हैं। दूसरे चरण में हम मध्य समय में पकने वाली किस्म का प्रयोग करते हैं, और तीसरा चरण में हम कम समय में पकने वाली किस्म का प्रयोग करते हैं। गेहूं की बजाई करने के लिए सबसे उपयुक्त तापमान 20 से 25 डिग्री सेंटीग्रेड तक होता है।

इस वैज्ञानिक तरीके से करें गेहूं बिजाई से पहले बीज उपचार(2023):Treat seeds using F.I.B method

F.I.B का मतलब फंगीसाइड, इंसेंटिसाइड और बैक्टीरियासाइड यानी फूफंदी नाशक से बीज उपचार, कीटनाशक से बीज उपचार और जीवाणुनाशक से बीज उपचार करना। इसमें सबसे पहले आपको फफूंदी नाशक से, उसके बाद कीट नाशक से और बाद में जीवाणु नाशक से इन तीनों से बीज उपचार करना चाहिए

बरानी क्षेत्र के लिए बनाई गई है ये खास गेहूं की तीन किस्में(2023):Wheat varieties of HAU

बरानी क्षेत्र के लिए चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय हिसार (हरियाणा) द्वारा तीन किस्में बनाई गई है। जो किसानों को पिछले काफी समय से अच्छी पैदावार निकाल कर दे रही हैं।

20 से 25 फुट लंबाई वाले गन्ने की किस्म के बारे में जानें:रोग रहित गन्ना किस्म,महाराष्ट्र की गन्ना किस्म

CO-8005 गन्ना किस्म महाराष्ट्र की गन्ना किस्म है। यह एक रोग रहित गन्ना किस्म है। इसमें पोका बोइंग या टॉप बोरर जैसे रोगों की कोई समस्या नहीं रहती। इसका अगोला गहरे हरे रंग का होता है। इस गन्ने की लंबाई 20 से 25 फीट तक हो जाती है। इस गन्ने की सबसे बड़ी समस्या गिरने की है।

सरसों में यूरिया डालने का सही समय और मात्रा के बारे में जाने(2023):Right way to add fertilizer in mustard

सरसों की फसल में हमें 50 किलोग्राम डीएपी, 100 किलोग्राम यूरिया, 30 किलोग्राम पोटाश, 20 किलोग्राम सल्फर और 6 किलोग्राम जिंक प्रति एकड़ प्रयोग करनी जरूरी है।

पंजाब और हरियाणा के किसानों द्वारा पसंद की जाने वाली गेहूं की खास उन्नत किस्म की करें बजाई:अधिक पैदावार, सम्पूर्ण जानकरी

गेहूं की यह किस्म पंजाब कृषि विश्वविद्यालय द्वारा वर्ष 2013-14 में बनाई गई। गेहूं की यह एक रिसर्च किस्म है। गेहूं की इस किस्म की नाली मोटी और मजबूत होती है। जिससे यह तेज हवाओं में नहीं गिरती। यह एक मध्यम ऊंचाई वाली गेहूं की समय है।

बंपर पैदावार के लिए कठोर, मोटे और चमकदार दाने वाली इस गेहूं किस्म की करें बजाई(2024):Wheat variety of Shriram Seeds

श्रीराम सुपर-111 श्रीराम सीड्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड की एक रिसर्च गेहूं की किस्म है। गेहूं की यह एक मध्यम ऊंचाई वाली गेहूं किस्म है। इसकी ऊंचाई लगभग 100 सेंटीमीटर तक रहती है। गेहूं की इस किस्म का दाना कठोर, मोटा और चमकदार होता है। दाना मोटा होने के कारण इस किस्म की रोटी भी अच्छी बनती है।

लेट बजाई और रोगों से लड़ने की क्षमता रखने वाली इस खास गेहूं किस्म की बिजाई करें(2023):Wheat variety of Punjab Agricultural University

गेहूं की PB-373 गेहूं किस्म पंजाब कृषि विश्वविद्यालय द्वारा बनाई गई एक रिसर्च गेहूं किस्म है। यह एक मध्यम ऊंचाई वाली गेहूं किस्म है। इसकी ऊंचाई 90 सेंटीमीटर के लगभग रहती है।

तेज हवाएं और अत्यधिक गर्मी को सहन करने वाली गेहूं की नई किस्म:best variety of wheat

WH-1105 चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय (हिसार) द्वारा बनाई गई एक रिसर्च गेहूं किस्म है। इसकी लंबाई लगभग 97 से 100 सेंटीमीटर तक रहती है। इस गेहूं की सबसे खास बात यह है, कि इसका तना मजबूत होता है। और यह तेज हवाओं में भी गिरती नहीं है।

स्वादिष्ट और सफेद चपाती के लिए गेहूं किस्म C–306 की करें बजाई:गेहूं की देसी किस्म

C–306 चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय हिसार द्वारा वर्ष 1969 में निकल गई थी। गेहूं की इस किस्म की लंबाई अधिक होती है। इस किस्म की लंबाई 110 से 115 सेंटीमीटर के लगभग रहती है। लंबाई अधिक होने के कारण इस गेहूं किस्म में गिरने की समस्या रहती है।

अधिक पैदावार देने वाली गेहूं की उन्नत किस्म श्रीराम सुपर-252 की खूबियां जानें:Improved wheat variety of Shriram Seeds

श्रीराम सुपर-252 गेहूं किस्म श्रीराम सीड्स इंडिया लिमिटेड द्वारा बनाई गई एक रिसर्च गेहूं किस्म है। गेहूं की यह एक अच्छी ऊंचाई वाली गेहूं किस्म है। इसकी ऊंचाई लगभग 103 सेंटीमीटर के आसपास रहती है। गेहूं की इस किस्म से भूसा अधिक बनता है। इस किस्म में गिरने की समस्या बिल्कुल भी नहीं है।

गेहूं में बिजाई के तुरंत बाद खरपतवारों को उगने से रोकने वाली इस सस्ती दवाई का इस्तेमाल करें(2024):किसान अपना समय और पैसा बचाएं

किसान साथियों गेहूं में बहुत सारे संकरी और चौड़ी पत्ती के खरपतवार उग जाते हैं। खरपतवारों को हम दो तरीके से नष्ट सकते हैं, उगने से पहले और उगाने के बाद। लेकिन कुछ खरपतवार जो जो गेहूं की फसल में अधिक मात्रा में उगते हैं। उनमें गुल्ली डंड (मांडुसी) मुख्य खरपतवार है।

कम पानी वाली जमीन में भी अच्छी पैदावार देती है गेहूं की यह खास किस्म:HI-8663 Wheat Top Variety

HI-8663 मध्य प्रदेश की एक रिसर्च गेहूं किस्म है। जो गर्मी को आसानी से सहन करने की क्षमता रखती है। गेहूं की इस किस्म में प्रोटीन की मात्रा अधिक पाई जाती है। इस किस्म को रोटी के अलावा सूजी और पास्ता बनने के लिए भी अधिक मात्रा में इस्तेमाल किया जाता है।

किसानों के बीच सबसे लोकप्रिय गेहूं किस्म के बारे में जानें(2023):PBW UNAT-343 Wheat Variety

PBW उन्नत-343 गेहूं किस्म पंजाब कृषि विश्वविद्यालय की एक रिसर्च गेहूं किस्म है। जो वर्ष 2007-08 में बनाई गई थी। यह एक पुरानी किस्म है, जिसमें पीले रतुआ रोग की शिकायत होने की वजह से इसको 2017 में वैज्ञानिकों ने दोबारा से इस किस्म में सुधार करके इसे पीला रतुआ और भूरा रतुआ रोग के प्रति सहनशील बनाया और इस किस्म को नया नाम दिया गय- PBW उन्नत-343

श्रीराम सीड्स की गेहूं किस्म जिसकी बजाई आप अगेती और पिछेती दोनों प्रकार से कर सकते हैं(2023):best wheat variety

श्रीराम सुपर-231 गेहूं किस्म श्रीराम सीड्स इंडिया लिमिटेड की एक रिसर्च किस्म है। यह एक अच्छी लंबाई वाली गेहूं किस्म है। इसकी लंबाई लगभग 103 से 105 सेंटीमीटर तक रहती है। इस किस्म में भूसे की मात्रा भी अन्य किस्म के मुकाबले अधिक होते हैं।

इस समय करें सरसों की बिजाई मिलेगी 1क्वान्टल से 2 क्वान्टल प्रति एकड़ तक अधिक पैदावार:Right time to sow mustard

सरसों की बिजाई करने का सही समय 10 अक्टूबर से लेकर 25 अक्टूबर तक का रहता है अगर आप इस समय अपनी सरसों की बिजाई करते हैं। तो आपको सबसे अच्छी पैदावार निकाल कर मिलेगी। सरसों की इस समय किसी भी किस्म की बिजाई कर सकते हैं। आप कम समय में पकने वाली अधिक समय में पकाने वाली दोनों प्रकार की किस्म की बिजाई इस समय पर कर सकते हैं। यह सरसों की बिजाई करने का सबसे सही समय है। अगर आप 20 अक्टूबर के लगभग अपनी सरसों की बिजाई करते हैं। तो आपको एक से दो कुंतल तक अधिक पैदावार मिलेगी। सरसों की बजाई के समय 15 से 25 सेल्सियस तापमान सबसे उपयुक्त रहता है।

लेट बजाई करने वाले किसानों को बंपर पैदावार देगी ये गेहूं किस्म(2023):Wheat variety from Syngenta Seeds

SW-26 गेहूं किस्म सिजेंटा सीट्स इंडिया लिमिटेड की एक रिसर्च किस्म है। जिसकी लंबाई माध्यम रहती है। इसकी लंबाई 90 से 95 सेंटीमीटर तक रहती है। इसके दाने चमकदार और मोटे होते हैं।

अधिक भूसे के लिए गेहूं की इस खास किस्म की बिजाई करें:PBW-677 wheat variety

गेहूं की यह किस्म पंजाब कृषि अनुसंधान संस्थान द्वारा वर्ष 2015 तैयार की गई है। इस किस्म की लंबाई लगभग 105 से 107 सेंटीमीटर तक रहती है। यह एक अधिक ऊंचाई वाली गेहूं की किस्म है। इसकी बाली लंबी और नाली मजबूत होती है।