गेहूं की पत्तियों का खराब होना:नीचे की पत्तियां पर धब्बे और सुख जाना, मुख्य कारण और उपचार जानें

By Kheti jankari

Updated on:

गेहूं की पत्तियों का खराब होना

गेहूं की पत्तियों का खराब होना एक आम समस्या है। यह लगभग सभी किसानों को देखने को मिलती है। इसलिए इसके होने कारण जानने जरूरी है। जिससे इसकी रोकथाम आसानी से की जा सके।

गेहूं की पैदावार बढ़ाने का आसान तरीका:कुछ तरीके जानें जो आपकी पैदावार को बढ़ा सकते हैं

किसान साथियों नमस्कार, गेहूं की फसल में समय-समय पर अनेक रोग लगते रहते हैं। इनमें से अधिकतर रोग मौसम बदलाव के कारण लगते हैं, तथा कुछ न्यूट्रिशन की कमी के कारण भी हो सकते हैं। खरपतवार नाशक दवाइयां के अत्यधिक प्रयोग से भी आपकी गेहूं की फसल की पत्तियां जल सकती है। और गेहूं भी खराब हो सकती हैं। इसलिए किसान भाई सावधानी बरतें और समय रहते ही अपनी फसल को देखते रहें और उसका सही समय पर उपचार करें। आजकल देखा गया है कि गेहूं की नीचे की पत्तियां पर भूरे रंग के धब्बे दिखने लगे हैं, और पत्तियां सूख रही हैं। इसके कुछ कारण आगे लेख में जानें-

गेहूं की पत्तियों में खराब होने के मुख्य कारण

  • इस तरह की प्रॉब्लम पौधे में आयरन की मात्रा अधिक होने के कारण भी हो जाती है। गेहूं में अगर आप आयरन का प्रयोग छींटा विधि द्वारा जमीन में करते हैं। और आपकी जमीन में पहले से ही आयरन की मात्रा अधिक होती है। तभी आप इस तरह की आपको प्रॉब्लम देखने को मिलती है।
  • इसका दूसरा कारण अत्यधिक ठंड का होना भी हो सकता है। आजकल रात को ठंड थोड़ी अधिक होती है, और दिन में धूप होने की वजह से गर्मी बढ़ जाती है। इसलिए गेहूं की पर दबाव बढ़ता है। जिससे नीचे की पत्तियां सूख जाती हैं।
  • लीफ और ब्लूम ब्लाउज फंगस जनित रोग के कारण भी आपको इस तरह के धब्बे पतियों देखने को मिलते हैं। और पत्तियां धीरे- धीरे सुख जाती है।

गेहूं में प्रयोग होने वाली सेंकोर खरपतवार नाशक की कुछ खास बातें जानें

गेहूं की सुखी पत्तियों का उपचार

अगर ठंड की वजह से आपकी गेहूं की फसल में यह समस्या आती है। तो आप नाइट्रोजन का प्रयोग कर सकते हैं। अगर लीफ एंड ब्लूम ब्लाउज फंगस रोग के कारण आपको यह रोग देखने को मिलता है। तो इसके लिए आप किसी फंगीसाइड का इस्तेमाल करना चाहिए हैं। इसके लिए आप फॉलिकूर (टेबुकोनाजोल 25.90% ईसी) 250ml प्रति एकड़, साफ़ (कार्बेन्डाजिम 12% और मैन्कोजेब 63% WP) 250g प्रति एकड़ या कस्टोडिआ (एज़ोक्सीस्ट्रोबिन 11% और टेबुकोनाज़ोल 18.4%) 200ml प्रति एकड़ के हिसाब से स्प्रे काट सकते है। आप इन तीनों में से किसी भी दवाई का स्प्रे कर सकते हैं।

आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी कृपया कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं और आगे भी इस जानकारी को दूसरे किसानों तक शेयर करें। धन्यवाद!

FAQ

गेहूं के पत्ते पीले क्यों पड़ रहे हैं?
गेहूं के पत्ते कई कारणों से पीले पड़ते है। इसके लिए हमे पता होना चाहिए की किस तत्व के कारण गेहूं में ये कमी आयी है। उसी हिसाब से हमे उसका उपचार करना पड़ेगा।

ये भी पढ़ें – गेहूं में खरपतवार नासक दवाइओं का प्रयोग कब करें(2023):जरूरी सावधानियां, खरपतवार नासी से गेहूं खराब होने से बचाए

गेहूं की पत्तियों बीच से मुड़कर पीलापन आने की समस्या:क्या है कारण, सस्ता इलाज जानें(2023)

दिसंबर के महीने में करें इन गेहूं किस्मों की बिजाई मिलेगी अधिक पैदावार

गेहूं में डीएपी की कमी:बिजाई के समय डीएपी का प्रयोग नहीं किया(2023),फास्फोरस की कमी पूरी करने का आसान तरीका जानें

Kheti jankari

खेती जानकारी एक ऐसी वेबसाइट है। जिसमें आपको कृषि से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यहां आप कृषि, पशुपालन और कृषि यंत्रों से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Leave a Comment