गेहूं में खरपतवार नासक दवाइओं का प्रयोग कब करें(2024):जरूरी सावधानियां, खरपतवार नासी से गेहूं खराब होने से बचाए

By Kheti jankari

Updated on:

गेहूं में खरपतवार नासक दवाइओं का प्रयोग कब करें

गेहूं में खरपतवार नासक दवाइओं का प्रयोग कब करें। ये प्रश्न सभी किसानों का रहता है। किसान ये समझने में चूक कर देते है, कि खरपतवार नासकों का प्रयोग कब करें। कई बार खरपतवार इतने बड़े हो जाते है, की वो खरपतवार नासी पर भी नहीं मरते। आगे इस लेख में इसके बारे में सम्पूर्ण जानें।

गेहूं में चौड़ी पत्ती वाले खरपतवारों को खत्म करने का सस्ता और आसान तरीका

गेहूं किसानों के लिए यह एक महत्वपूर्ण मुद्दा है। कई बार किसानों की फसल खरपतवार नाशकों के उल्टे-सीधे इस्तेमाल की वजह से खराब हो जाती है। यह समस्या हमें तब अधिक देखने को मिलती हैं। जब किसान सोशल मीडिया और लोगों से तरह-तरह के खरपतवार नाशकों के बारे में सुनने को मिलता है, और वह उसे कंफ्यूज होकर ऐसी खरपतवार नाशक दवाइयां का इस्तेमाल कर बैठते हैं। जो उनकी गेहूं की फसल को खराब कर देते हैं। गेहूं में खरपतवार नाशक दवाइयां का इस्तेमाल कब करें और खरपतवारों का इस्तेमाल करते समय क्या-क्या सावधानियां बरतनी चाहिए। यह सभी संपूर्ण जानकारी नीचे जानें

गेहूं में खरपतवार नासक दवाइओं का प्रयोग कब करें

गेहूं की फसल में कुछ खरपतवार बिजाई के समय ही उग जाते हैं, तथा कुछ खरपतवार पहले पानी के बाद उगते हैं। जब आप अपनी गेहूं की फसल में पहला पानी लगाते हो उसके 7 से 8 दिन बाद जब खरपतवार दो से तीन पत्ती के हो जाएं। तब आपको खरपतवार नासी का प्रयोग करना चाहिए है। यह अवस्था मुख्य रूप से 35 से 40 दिन पर आती है। ये गेहूं में खरपतवार नासी डालने का सही समय होता है।

गेहूं में पानी कब लगाएं:कितनी बार लगाएं,पानी देने के इस तरीके से पैदावार को बढ़ाएं

खरपतवार नाशकों का प्रयोग करते समय सावधानियां

खरपतवार नाशकों का इस्तेमाल करते समय हमें नीचे बताई गई कुछ सावधानियां को अवश्य जान लेना चाहिए। यह सावधानी आपकी फसल को नुक्सान से बचा सकती है।

  • जब आपकी गेहूं की फसल में खरपतवार दिखे तब ही स्प्रे करें। बिना खरपतवार के दवाई न डालें।
  • खरपतवार नाशकों का इस्तेमाल आपकी मिट्टी पर निर्भर करता है। यदि आपकी जमीन हल्की है, तो आप सामान्य से कम मात्रा में खरपतवार नाशक का प्रयोग करें।
  • खरपतवार नाशकों का इस्तेमाल करते समय पर्याप्त मात्रा में पानी जरूर लें। 150 से 200 लीटर पानी प्रति एकड़ अवश्य प्रयोग करें।
  • अगर आपने अगली फसल में मक्का या ज्वार की फसल लगानी है। तो उसमें सल्फोसल्फ्यूरॉन 75% + मेटसल्फ्यूरॉन 5% डब्लूजी (टोटल) दवाई का इस्तेमाल न करें।
  • खरपतवार नासक का इस्तेमाल करने से पहले अपने नजदीकी दुकानदार से सलाह अवश्य लें। क्योंकि उसको पता होता है। कि आपके क्षेत्र में जमीन कैसी है, उसमें कौन सी दवाई अच्छे से काम करती है।
  • चना या सरसों की फसल अगर साथ वाले खेत में लगाई हुई है, तो गेहूं में 24d- 38% वाले प्रयोग न करें। क्यूंकि ये गैस बनाती है। और यह पास वाले खेतों की फसलों को भी जला सकती है।

आपको यह मेरा लेख कैसा लगा। कृपया कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं। ताकि मैं आगे भी आपको ऐसी अच्छी-अच्छी जानकारी देता रहूं। धन्यवाद!

ये भी पढ़ें- गेहूं में प्रयोग होने वाली सेंकोर खरपतवार नाशक की कुछ खास बातें जानें:सेंकोर को प्रयोग करने का अनोखा तरीका

गेहूं की पत्तियों बीच से मुड़कर पीलापन आने की समस्या:क्या है कारण, सस्ता इलाज जानें

गेहूं में जिंक डालें या नहीं(2023):जानें कृषि सलाहकार इस बारे में क्या कहते है

गेहूं में अड़ियल मंडुसी (गुली डंडा) को भी जड़ से ख़त्म करने की क्षमता रखती है यह खास खरपतवार नाशक दवा

गेहूं में जिंक और सल्फर का प्रयोग एक साथ नहीं किया:तो सब कुछ फेल, जानें क्या कहते है कृषि जानकर

Kheti jankari

खेती जानकारी एक ऐसी वेबसाइट है। जिसमें आपको कृषि से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यहां आप कृषि, पशुपालन और कृषि यंत्रों से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Leave a Comment