गेहूं में बुवाई के समय पोटाश नहीं डाला:तो क्या करें:इस समय स्प्रे करें ये मिटटी में डालें:Importance of potash in wheat

By Kheti jankari

Updated on:

गेहूं में बुवाई के समय पोटाश नहीं डाला

गेहूं में बुवाई के समय पोटाश नहीं डाला। गेहूं में की खेती। गेहूं में पोटाश। गेहूं में mop, गेहूं में सबसे अच्छा स्प्रे। गेहूं में पोटाश की कमी के लक्षण। गेहूं में पोटाश का महत्व। समय स्प्रे करें ये मिटटी में डालें। Importance of potash in wheat.

गेहूं वाले किसान सावधान:ठंड के मौसम में तेजी से फैल रहा है ये रोग

किसान साथियों नमस्कार, गेहूं की फसल इस समय लगभग 70 से 80 दिनों की हो गई है। ठंड बढ़ाने के कारण पौधे जमीन से पोषक तत्वों को कम मात्रा में उठा रहे हैं। जिससे हमें फसलों में पोषक तत्वों की कमी देखने को मिल रही है। इस समय अगर आप अपने गेहूं की फसल में पोषक तत्वों की कमी को पूरा करना चाहते हैं। तो आपको स्प्रे द्वारा ही सीधा ही छिड़काव करना चाहिए। क्योंकि पौधे जमीन से सूर्य के प्रकाश बिना तत्वों को बहुत कम मात्रा में उठते हैं। किसान साथियों अगर आपने गेहूं की बिजाई के समय पोटाश का प्रयोग नहीं किया और आपकी फसल में पोटाश की कमी दिख रही है। तो आप नीचे दिए गए इन तरीकों से अपनी फसल में आसानी से पोटाश की कमी को पूरा कर सकते है।

गेहूं में पोटाश का महत्व

पोटेशियम पौधे एक प्रमुख पोषक तत्व है। जिसकी आवश्यकता बढ़ती जा रही है। क्योंकि मिट्टी का भंडार ख़त्म हो रहा है। पोटेशियम की कमी के परिणामस्वरूप पानी और अन्य पोषक तत्वों का पौधा कम उपयोग करता है। जिससे फसलें सूखे, जलभराव, पाले और पत्ती रोग अधिक मात्रा में देखे जाते है।

गेहूं में कितने दिन तक यूरिया का प्रयोग करें:बाद में करने का कितना नुकसान

गेहूं में पोटाश की कमी के लक्षण

गेहूं में पोटाश की कमी आपको ऊपरी पत्तों पर देखने को मिलती है। गेहूं के ऊपरी हिस्से की नोक पीली पड़ जाती है, और ऐसा लगता है जैसे पत्ती जल गई हो। पत्ती के किनारो से झुलस जाती है। इसकी कमी से पत्तियों का आकार छोटा हो जाता है, और उनकी वृद्धि रुक जाती है। अगर आपके ऊपर दिए गए लक्षण अपनी फसल में दिखाते हैं। तो यह पोटाश की कमी है, इसके लिए हमें पोटाश का प्रयोग करना चाहिए।

गेहूं में कौन से पोटाश का इस्तेमाल करें

किसान साथियों गेहूं में पोटाश की कमी को पूरा करने के लिए आपको इस समय पोटाश स्प्रे में देना चाहिए। ताकि पौधे में जल्द से जल्द पोटाश की कमी को पूरा किया जा सके। अगर आप इस समय जमीन से पोटाश को देते हैं, तो पौधे तक पहुंचने में उसको काफी समय लग जाता है। पोटाश की कमी को पूरा करने के लिए आप नीचे दिए गए किसी भी उत्पाद का इस्तेमाल कर सकते हैं।

  • MOP जो अपना 50 किलो का बैग में आता है। उसकी 1 से 2 किलोग्राम मात्रा प्रति एकड़ के हिसाब से आप स्प्रे कर सकते हैं।
  • एनपीके 00-00-50 को 1 ग्राम प्रति लीटर के हिसाब से घोलकर अपनी फसल में स्प्रे करें।
  • एफएमसी (लीजेंड) 20% जैविक पोटाश 1.5% सल्फर का भी आप प्रयोग कर सकते हैं। यह आपको थोड़ा महंगा पड़ेगा लेकिन इसके परिणाम बहुत अच्छे देखने को मिलते हैं। इसकी 48g मात्रा प्रति एकड़ प्रयोग करें।

आप ऊपर दिए गए किसी भी पोटाश जो आपको आसानी से उपलब्ध हो अपनी फसल में स्प्रे कर सकते हैं। इससे आपकी फसल में पोटाश की कमी आसानी से पूरी हो जाएगी और आपकी फसल हरी भरी हो जाएगी। आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी। कृपया कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं और इसे अन्य दूसरे किसानों तक अवश्य शेयर करें। धन्यवाद!

ये भी पढ़ें – गेहूं में कितने दिन तक यूरिया का प्रयोग करें:बाद में करने का कितना नुकसान

गेहूं की बाली में दानों की संख्या और दानों का वजन बढ़ाने के लिए करें ये स्प्रे

गेहूं में आखिरी खाद:वजनदार दानों के लिए यूरिया के साथ क्या मिलाए किसान

गेहूं में पैदावार बढ़ाने वाला PGR:कृषि वैज्ञानिक की सलाह:वृद्धि नियंत्रक का प्रयोग कब और कैसे करें, संपूर्ण जाने

Kheti jankari

खेती जानकारी एक ऐसी वेबसाइट है। जिसमें आपको कृषि से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यहां आप कृषि, पशुपालन और कृषि यंत्रों से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Leave a Comment