गेहूं में जड़ों के विकास के लिए माइकोराइजा डालें या ह्यूमिक एसिड, दोनों में क्या अंतर है:mycorrhiza or humic acid

By Kheti jankari

Updated on:

गेहूं में जड़ों के विकास के लिए माइकोराइजा डालें या ह्यूमिक एसिड

गेहूं में जड़ों के विकास के लिए माइकोराइजा डालें या ह्यूमिक एसिड। गेहूं में खाद। गेहूं की खेती। माइकोराइजा क्या है। ह्यूमिक एसिड क्या है। गेहूं में फुटाव वाली दवाई।गेहूं में कौन-सा उत्पाद प्रयोग करें। mycorrhiza or humic acid.

गेहूं में एनपीके, बोरोन और फंगीसाइड को मिक्स करके स्प्रे कर सकते हैं, या नहीं:क्या कहते हैं कृषि जानकारी

अक्सर किसानों का यह सवाल रहता है, कि सफेद जड़ों की वृद्धि करने के लिए अपनी फसल में क्या डालें। हमिक एसिड का प्रयोग करें या माइकोराइजा का। क्योंकि आए दिन यूट्यूब या गूगल पर तरह-तरह के विकल्प देखने को मिलते हैं। जिनको देखकर किसान कंफ्यूज होने लगते हैं। आज मैं आपको माइक्रोजम और हमिक एसिड में अंतर बताऊंगा और हमें किस कंडीशन में कौन से ग्रोथ प्रमोटर का प्रयोग करना चाहिए। इस बारे में संपूर्ण जानकारी इस लेख में आपको मिलेगी। कृपा पूरा पढ़ें –

माइकोराइजा क्या है

माइकोराइजा एक परजीवी तत्व है। जो फसल की जड़ों के ऊपर पाया जाता है। यह एक तरह की फंगस होती है। जो पौधे की जड़ों पर चिपकी रहती है, और पौधे को मिट्टी में पड़े पोषक तत्व ग्रहण करने में मदद करता है। यह पौधे की जड़ों के ऊपर घर बना लेता है। यह मिट्टी से पोषक तत्व और पानी को सोख कर पौधे के अंदर भेजता रहता है।

गेहूं में दोगुने कल्ले और लंबी बाली के लिए पानी के साथ डालें ये तीन खाद:अनुभवी किसान का फार्मूला

माइकोराइजा हमें विभिन्न कंपनियों का अलग-अलग नाम से मार्केट में मिलता है। यह दानेदार और पाउडर दोनों फॉर्म में पाया जाता है। दानेदार माइकोराइजा को सीधा मिट्टी में प्रयोग किया जाता है, और पाउडर वाले माइक्रोजा को ड्रीचिंग द्वारा पौधे की जड़ों तक पहुंचाया जाता है। दानेदार माइकोराइजा जैसे- धानुका (माइकोर), एफएमसी (न्यूट्रोमैक्स) और टाटा (रैली गोल्ड ) आदि नामों से बाजार में आपको आसानी से मिल जाता है। इनकी 4 किलोग्राम मात्रा प्रति एकड़ प्रयोग की जाती है। पाउडर फॉर्म जैसे- सुमितोमो (नेचर डीप) के नाम से बाजार में आसानी से मिल जाता है।

नोट- माइकोराइजा का प्रयोग करने से 10 दिन पहले और 10 दिन बाद तक किसी भी प्रकार का फफूंदी नाशक अपने खेत में प्रयोग नहीं करना चाहिए।

ह्यूमिक एसिड क्या है

ह्यूमिक एसिड एक प्राकृतिक तत्व है। जो मिट्टी सुधारक के रूप में कार्य करता है। ह्यूमिक एसिड काला सोना के नाम से भी जाना जाता है। क्योंकि इसका रंग काला होता है। ह्यूमिक एसिड मिट्टी से पानी सोखने का काम करता है। यह मिट्टी के पीएच लेवल को सही रखता है। मिट्टी में पाए जाने वाले तत्वों को पौधे में अपडेट करने में मदद करता है। जिससे पौधे में जड़ों का विकास होता है।

ह्यूमिक एसिड आपको दानेदार और तरल दोनों फॉर्म में देखने को मिल जाता है। दानेदार ह्यूमिक एसिड को जड़ों में खाद या रेत में मिलाकर प्रयोग किया जाता है। तरल ह्यूमिक एसिड को स्प्रे द्वारा या ड्रिंकिंग द्वारा पौधे पर प्रयोग किया जाता है। ह्यूमिक एसिड के मुख्या ब्रांड जैसे- पीआई इंडस्ट्रीज (ह्यूमसोल), मल्टीप्लेक्स (जीवरस) और मॉडेस्टो (फ्लोरिडा) आदि का बाजार में आपको आसानी से मिल जाता है।

नोट- कुछ किसान ह्यूमिक एसिड का प्रयोग पौधों पर स्प्रे के द्वारा भी करते हैं। इससे उन पौधों में हरियाली बढ़ जाती है और पौधे की बढ़वार भी अधिक होती है। लेकिन ह्यूमिक एसिड मिट्टी में प्रयोग किया जाना चाहिए। वहां इसके आपको अधिक अच्छे रिजल्ट देखने को मिलेंगे।

गेहूं में कौन-सा उत्पाद प्रयोग करें

अगर आपकी मिट्टी का पीएच लेवल सही है, और आपने उसमें कोई फंगीसाइड का इस्तेमाल नहीं किया है। तो आपको माइकोराइजा का इस्तेमाल करना चाहिए। यह आपकी जड़ों का विकास ह्यूमिक एसिड के मुकाबले ज्यादा अच्छे से करता है। अगर आप की मिट्टी का पीएच लेवल सही नहीं है, तो इस कंडीशन में आप ह्यूमिक एसिड का प्रयोग करें। यह आपकी मिट्टी को सुधार कर पौधे की जड़ों को मजबूत करता है, और उन्हें नई जड़ों को बनाने में सहायता करता है। आप अपने हिसाब से किसी भी उत्पाद का इस्तेमाल कर सकते हैं, जो आपको आसानी से बाजार में मिल जाए।

किसान साथियों आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी। कृपया कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं और इसे अन्य दूसरे किसानों तक भी अवश्य शेयर करें। धन्यवाद!

FAQ

गेहूं की ग्रोथ के लिए क्या डालें?
गेहूं में ग्रोथ के लिए आप अपनी मिटटी की हिसाब से जिंक, ह्यूमिक एसिड, माइकोराइजा, सीवीड, फलविक एसिड आदि किसी भी उत्पाद का इस्तेमाल क्र सकते है।

ये भी पढ़ें – गेहूं में खरपतवार नासक दवाइओं का प्रयोग कब करें(2023):जरूरी सावधानियां, खरपतवार नासी से गेहूं खराब होने से बचाए

गेहूं में सब कुछ डालने के बाद भी कल्ले नहीं बने:ये है मुख्य कारण, डालें ये जरूरी खाद

गेहूं में खरपतवार नासक दवाइओं का प्रयोग कब करें(2023):जरूरी सावधानियां, खरपतवार नासी से गेहूं खराब होने से बचाए

गेहूं की पैदावार बढ़ाने के लिए आपको इन तीन पत्तियों का हरा रखना जरूरी है:गेहूं की पैदावार तीन पत्तियों पर निर्भर करती है

Kheti jankari

खेती जानकारी एक ऐसी वेबसाइट है। जिसमें आपको कृषि से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यहां आप कृषि, पशुपालन और कृषि यंत्रों से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Leave a Comment