चने में जड़ गलन समस्या(2024):किसानों के अनुभव, ये कुछ बातें आपको कोई नहीं बताएगा

By Kheti jankari

Updated on:

चने में जड़ गलन समस्या

चने में जड़ गलन समस्या एक बड़ी समस्या रही है। जड़ गलन से चने की पूरा पौधा सूख जाता है। यह लेख चना किसानों के लिए बहुत महत्वपूर्ण होने वाला है। कृपया इसे पूरा पढ़ें-

सरसों की फसल में अधिक उत्पादन और तेल की मात्रा बढ़ने वाला सबसे ताकतवर खाद

इस लेख में आपको किसानों के अनुभव द्वारा ही जानकारी दी जाएगी। किसानों का मानना है, कि चने की बिजाई अगर ज्यादा नमी में की जाए। तो इसमें जड़ गलन की समस्या देखने को मिलती है। पिछली फसल अवशेषों से भी चने में यह फंगस रोग अधिक फैलता है। इस रोग से बचने के लिए हमें क्या-क्या करना चाहिए ये सभी जानकरी आगे इस लेख में जानें।

चने में जड़ गलन से बचाव के लिए सावधानियां

चने में जड़ गलन से बचाव के लिए हमे नीचे लिखी कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए।

  • ज्वार या बाजरे वाले खेत में चने की बुवाई ना करें। क्योंकि इसमें फसल अवशेष रह जाते हैं। जिससे यह फंगस तेजी से फैलती है।
  • अगर आप ज्वार वाले खेत में बिजाई करते हो। तो पलेवा करने के बाद ही बिजाई करें।
  • चने की बिजाई करने से पहले खेत को अच्छी प्रकार से तैयार कर लें। उसमें किसी प्रकार के पुराने फसल अवशेष ना बचें।
  • चने की बिजाई करने से पहले 2 किलोग्राम ट्राइकोडर्मा पाउडर को गोबर की गली- खड़ी खाद में मिलाकर खेत में भी बिखेर दें।
  • चने की बिजाई करने से पहले बीज उपचार फफूंदीनाशक से अवश्य करें।

गेहूं में खरपतवार नासक दवाइओं का प्रयोग कब करें:जरूरी सावधानियां

चने में जड़ गलन का इलाज

चने में जड़ गलन की रोकथाम के लिए आपको कोई अलग से दवाइयां करने की आवश्यकता नहीं है। इसके लिए आप सामान्य जो फंगीसाइड आते हैं। आप उनका इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन चने में जड़ कारण की समस्या इतनी आसानी से कंट्रोल नहीं होती। इसकी रोकथाम के लिए आप-

  • फोलिकर (बायर) टेबुकोनाज़ोल 25.90% ईसी 250ml प्रति एकड़ के हिसाब से स्प्रे कर सकते हैं। या फिर बाविस्टिन (कार्बेन्डाजिम 50% WP) 300 से 400 ग्राम प्रति एकड़ प्रयोग कर सकते हैं।
  • खेत में पानी लगाने से पहले 500 ग्राम थायोफैनेट मिथाइल 70% WP प्रति एकड़ यूरिया या रेत में मिलाकर बिखेर दें।

नोट-खेत में पानी तब ही लगाएं। जब जरूरत हो ज्यादा नमी होने से रोग बढ़ भी सकता है।

आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो कृपया आगे शेयर करें और कमेंट के माध्यम से हमें जरूर बताएं। धन्यवाद!

ये भी पढ़ें –पोका बोईंग और रेड रॉट जैसे रोगों को सहने की शक्ति रखती है गन्ने की यह अर्ली किस्म

गेहूं की पैदावार बढ़ाने का आसान तरीका:कुछ तरीके जानें जो आपकी पैदावार को बढ़ा सकते हैं

गेहूं की पत्तियों बीच से मुड़कर पीलापन आने की समस्या:क्या है कारण, सस्ता इलाज जानें

सरसों में तेजी से फ़ैल रहा है, सफेद तना गलन रोग कैसे करें रोकथाम

गेहूं में जिंक और सल्फर का प्रयोग एक साथ नहीं किया:तो सब कुछ फेल, जानें क्या कहते है कृषि जानकर

Kheti jankari

खेती जानकारी एक ऐसी वेबसाइट है। जिसमें आपको कृषि से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यहां आप कृषि, पशुपालन और कृषि यंत्रों से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Leave a Comment